अमेरिका में हिंदू पुजारी पर हमला, कहा ‘ये हमारी जगह है’

अमेरिका में हिंदू पुजारी पर हमला, कहा ‘ये हमारी जगह है’

वाशिंगटन : अमेरिका में स्वामी हरीश चंदर पुरी पर 18 जुलाई को क्वींस क्षेत्र में लगभग 11 बजे हमला किया गया था। कुछ लोगों ने दावा किया कि उनकी धार्मिक पोशाक के कारण उनके साथ मारपीट की गई। 52 साल के हमलावर सर्गियो गोवइया ने हमले के वक्त नस्लीय टिप्पणी की थी. उसने कहा कि ये हमारी जगह है. 18 जुलाई को, स्वामी हरीश चंदर पुरी को एक व्यक्ति द्वारा बार-बार हमला किए जाने के बाद उसके चेहरे सहित पूरे शरीर पर चोट के निशान थे। मंदिर के कुछ भक्तों के अनुसार, उनकी धार्मिक पोशाक के कारण उन पर हमला किया गया था।

स्वामी हरीश चंदर पुरी ने कहा कि 18 जुलाई को सुबह 11 बजे के करीब, एक आदमी द्वारा उनके साथ बार-बार मारपीट की गई। उनके चेहरे सहित पूरे शरीर पर चोट के निशान है। पुजारी ने यूनाइटेड स्टेट्स न्यूज चैनल PIX 11 को बताया “वह बहुत गुस्से में था” “मैं थोड़ा दर्द में हूं। कभी-कभी लोगों का कोई नियंत्रण नहीं होता है।” मंदिर में मौजूद भक्तों ने दावा किया कि हमले के दौरान हमलावर ने कहा, “यह मेरा मुल्क है और ये हमारी जगह है”। न्यूयॉर्क पुलिस विभाग के प्रवक्ता ने कहा कि पुरी को एक छतरी जैसी वस्तु के साथ मुक्का मारा गया।

बता दें कि संयुक्त राज्य के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने चार लोकतांत्रिक कांग्रेसियों को अपने देश में “वापस जाने” के लिए कहा। उसके बाद ये हमला हुआ है. पुलिस ने आरोपी सर्गियो को गिरफ्तार कर लिया है. उस पर हमला करने, प्रताड़ित करने और अवैध हथियार रखने का मामला दर्ज किया गया है. भारतीय मूल के स्वामी हरीश चंद्र पर ये हमला तब हुआ है जब ट्रंप ने विदेशी मूल की डेमोक्रेटिक कांग्रेसवुमन्स के बारे में नस्लीय टिप्पणियां की हैं.

न्यू यॉर्क पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि पीड़ित को अस्पताल ले जाया गया है. उनके सर, नाक, छाती, बाजुओं और टांगों पर कट लगे हैं. अभी जांच चल रही है. ये नस्लीय हमला था या नहीं, जांच के बाद ही पता चलेगा. अमेरिका में रह रही हिंदू आबादी ने इस घटना पर चिंता जताई है. साधना नाम की संस्था के पोस्ट करके प्रज़िडेंट ट्रंप को बढ़ते नस्लीय हमलों के लिए जिम्मेदार ठहराया है. संयुक्त राज्य अमेरिका में भारतीय राजनयिकों ने रविवार को न्यूयॉर्क के क्वींस इलाके में एक मंदिर के पास एक हिंदू पुजारी पर हमले के बाद उनके द्वारा की गई त्वरित कार्रवाई के लिए अधिकारियों को धन्यवाद दिया।

Top Stories