Tuesday , April 24 2018

बिहार : अररिया का वायरल वीडियो संदेह के घेरे में, जांच में सच्चाई सामने आई

अररिया से राजद नेता सरफराज आलम की जीत के बाद एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगते दिखे। हालांकि, इस वीडियो के फर्जी होने का दावा कि या गया है। एक अंग्रेजी ऑल्ट न्यूज़ की रिसर्च के अनुसार यह वीडियो पूरी तरह से फर्जी है और इसमें छेड़छाड़ की गई है।

इस न्यूज़ वेबसाइट ने टेक्निकली इस वीडियो की जांच की है। उनका कहना है कि इस वीडियो को 3 अलग अलग सोर्सेज से लेकर इसकी जांच की गई है। इसके ऑडियो फ्रेम्स को जांचा गया है। ऑडेसिटी सॉफ्टवेयर में जब इन सभी वीडियो के फ्रेम को बारीकी से देखा गया तो पता चला कि वीडियो में दो जगह ऑडियो का कीफ्रेम जीरो है।

कुछ अन्य सॉफ्टवेयर के जरिये भी इस वेबसाइट ने वीडियो को परखा। जहां उन्हें दो जगह ऑडियो लेवल जीरो मिला। ऑल्ट न्यूज़ का कहना है कि इस वीडियो को ध्यान से सुनने पर पता चलता है कि बैकग्राउंड में टकटक की आवाज आ रही है। इसके अलावा भी इस वीडियो में कई जगह शोरगुल की आवाज सुनाई देती है।

लेकिन इन सब के बीच कुछ जगहों पर ऑडियो लेवल जीरो होने से वीडियो की प्रमाणिकता पर संदेह पैदा होता है। साथ ही इसके अलावा वीडियो फुटेज को भी बारीकी से परखा गया, जहां पर लिप सिंकिंग को लेकर बताया गया है।

वीडियो को फ्रेम बाय फ्रेम जब जांचा गया तो सिर्फ एक लड़के का लिप्स सिंक हो रहा है बाकी के दो लड़कों का मुंह बंद है, मतलब यह कि अगर ऑडियो-वीडियो सिंक हो रहा है तो उस पीरियड में ऑडियो लेवल बढ़ना चाहिए जो नहीं बढ़ा है। इससे यह साफ़ होता है कि वीडियो के साथ छेड़छाड़ की गई है।

इस देश विरोधी नारे वाले वीडियो के बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए दो लोगों को गिरफ्तार किया है। इस वीडियो के वायरल होने के बाद अररिया जिले में कुछ स्थानीय लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया था। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने यह प्रशासन से वीडियो में दिख रहे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने को कहा था।

पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों सुल्तान और सहजाद को गिरफ्तार कर लिया है। बताया जा रहा है कि यह दोनों आरोपी आरजेडी के नए सांसद सरफराज आलम के पड़ोसी हैं।

TOPPOPULARRECENT