औरंगाबाद का तब्लीगी इज़्तिमा : लाखों मुस्लिमों का हुजूम इज़्तिमागाह पर

औरंगाबाद का तब्लीगी इज़्तिमा : लाखों मुस्लिमों का हुजूम इज़्तिमागाह पर

औरंगाबाद। शनिवार से औरंगाबाद में शुरू हुई तब्लीगी जमात के तीन दिवसीय इज़्तिमा में इज़्तिमागाह पर भारी भीड़ देखी गई। यहाँ लाखों मुसलमानों के लिए आवश्यक व्यवस्था की गई है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, औरंगाबाद और अन्य जिलों से करीब 5,000 पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं, जिसमें तीन पुलिस आयुक्त और सहायक आयुक्त के साथ 25 पुलिस निरीक्षक और 70 उपनिरीक्षक शामिल हैं।

https://youtu.be/XfbSBUTZjhc

राज्य रिजर्व पुलिस बल (एसआरपीएफ) की चार कम्पनियां हैं, 1,000 ट्रैफिक पुलिसकर्मी और बम निरोधी दस्ते (बीडीडीएस) के आठ दस्ते शामिल हैं। आयोजकों ने कहा कि इस आयोजन का उद्देश्य शांति और भाईचारे से देश का विकास है। तीन दिवसीय समारोह के दौरान मुस्लिम विद्वान और विशेषज्ञ विभिन्न धार्मिक मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

https://youtu.be/KomCunizqqE

आयोजन समिति ने 20 से 25 विभिन्न उप-समितियों की स्थापना की है और इस आयोजन को सफल बनाने के लिए उन्हें विभिन्न प्रकार की जिम्मेदारियों को सौंप दिया है। इसके लिए तैयारी करीब दो महीने पहले शुरू हुई थी, जिसमें समुदाय के सदस्यों ने स्वेच्छा से भाग लिया था ताकि समिति स्थल पर आवश्यक व्यवस्था कर सके। यहां मूक और बघिर लोगों के लिए अलग से व्यवस्था भी की गई है।

https://youtu.be/zFs60HmrNV8

लीम्बे-जलगांव गांव के किसानों ने इस आयोजन के लिए भूमि मुफ्त दी है। भोजन, पेयजल, रहने और अन्य बुनियादी सुविधाओं की व्यवस्था लगभग पूरी तरह से की गई है। इज़्तिमा के आयोजकों ने पुलिस, फायर ब्रिगेड, स्वास्थ्य विभाग, लोक निर्माण विभाग और महाराष्ट्र राज्य विद्युत वितरण कंपनी लिमिटेड (एमएसईडीसीएल) से अनापत्ति प्रमाणपत्र (एनओसी) लिया है।

एमएसईडीसीएल ने यहां के लिए बिजली के अलग-अलग फीडर का प्रबंध किया है। महाराष्ट्र सरकार ने एक आदेश जारी कर दिया है कि राज्य में सभी उर्दू स्कूल 26 फरवरी को इज़्तिमा के समापन दिवस पर बंद रहेंगे। इस बीच, राज्य और देश के विभिन्न स्थानों से कई विशेष गाड़ियों और बसों की व्यवस्था की गई है। सभी टोल प्लाजा को इज़्तिमागाह के लिए आने वाले वाहनों से टोल कर से छूट दी गई है।

Top Stories