Tuesday , September 25 2018

अडानी के खिलाफ स्टोरी करने वाले आस्ट्रेलियाई पत्रकार को भारत ने नहीं दिया वीजा

ऑस्ट्रेलियाई मीडिया ग्रुप ABC की एक पत्रकार का कहना है उन्होंने भारत आने के लिए वीजा का अनुरोध किया था लेकिन अभी तक उसका कोई जवाब नहीं मिल पाया है. ABC पर लिखे एक लेख में भारत में जन्मी एबीसी से जुडी रिपोर्टर अमृता स्ली का कहना है कि एबीसी के रेडियो चैनल ‘रेडियो नेटवर्क’ पर उन्हें और उनके सहयोगियों को भारत में एक व्यापक श्रेणी के साक्षात्कार के लिए अनुदान मिला था.

जिसमें शिक्षाविदों, पत्रकारों, पर्यावरण कार्यकर्ताओं सहित व्यंग्यकार और इतिहासकार टीम ने इस साल फरवरी के लिए हवाई टिकट बुक किए थे और दिसंबर में अपने वीज़ा के लिए आवेदन किया था. जब उन्होंने विदेश मंत्रालय से यह पता करने की कोशिश की कि वीजा क्यों नहीं मिल रहा है तो उन्हें उच्च पदस्थ सूत्रों से जानकारी मिली कि मशहूर उद्योगपति गौतम अडाणी के खिलाफ खबर करने की वजह से उसका वीजा लटकाया गया है. बता दें कि पिछले साल अक्टूबर में इस पत्रकार ने आस्ट्रेलिया में अडाणी ग्रुप द्वारा अनुचित तरीके से कोल माइंस खरीदने संबंधित स्टोरी कवर की थी.

दरअसल यह पत्रकार आस्ट्रेलिया के रेडियो नेशनल पर भारत के गौरवशाली इतिहास पर सीरीज में प्रसारित होने वाले एक प्रोग्राम को शूट करने भारत आना चाहते थे। इस प्रोग्राम में स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद भारत के सफरनामे को चित्रंकित करना था। इसके लिए पत्रकार को भारत में विभिन्न इतिहासकारों, अर्थशास्त्रियों, खोजी पत्रकारों, व्यंगकारों, पर्यावरणविदों, शिक्षाविदों, शिल्पकारों और छात्र नेताओं से इंटरव्यू करने थे।

आस्ट्रेलियाई पत्रकार को इस प्रोग्राम में भारत में जाति और लिंग भेद, धार्मिक भेदभाव, लैंगिक असमानता, मीडिया की आजादी, न्यायपालिका पर नियंत्रण और हमले, फेक न्यूज, रक्षा मुद्दों समेत राजनीतिक एजेंडों को शामिल करना था। इसके लिए उन्हें स्कॉलरशिप भी मिली थी। तय योजना के मुताबिक पत्रकारों के एक दस्ते को फरवरी में आना था और इसके लिए आवेदन और इंटरव्यू शिड्यूल दिसंबर में ही कर दिया गया था। बावजूद इसके उन्हें वीजा नहीं दिया गया।

बता दें की एबीसी न्यूज के विशेष कार्यक्रम फोर कॉर्नर्स के तहत की गई पड़ताल के बाद ये दावा किया गया था कि ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड में कई अहम परिसंपत्तियां दरअसल अडानी समूह की हैं।

TOPPOPULARRECENT