जानिए, बहरैन में लोग चुनाव का क्यों कर रहे हैं बहिष्कार?

जानिए, बहरैन में लोग चुनाव का क्यों कर रहे हैं बहिष्कार?
Click for full image

बहरैन की चुनावी व्यवस्था में नागरिकों को बराबरी का अधिकार हासिल नहीं है और चुनाव के मूल सिद्धांत अर्थात हर नागरिक को एक वोट देने के अधिकार के अनुसार नहीं है। इसके अलावा बहरैन का सत्ताधारी आले ख़लीफ़ा शासन चुनाव पर किसी तरह की निगरानी के लिए तय्यार नहीं है।

बहरैन में चुनाव के प्रजातंत्र के मूल मानदंड के अनुरूप न होने की वजह से इस देश की जनता चुनाव का विरोध कर रही है। दूसरी ओर बहरैनी दलों व संगठनों की ओर से देश के दिखावटी चुनाव के बहिष्कार के एलान के साथ ही बहरैन के गृह मंत्रालय ने चुनाव का बहिष्कार करने वालों को क़ानूनी कार्यवाही की धमकी दी है।

बहरैनी शासन ने 24 नवंबर 2018 के दिखावटी चुनाव में जनता के भाग न लेने के डर से पिछले हफ़्ते से क्रान्तिकारियों के घरों पर छापा मार कर उन्हें गिरफ़्तार करने और अज्ञात स्थान भेजना शुरु कर दिया है। इस तरह वह भय का माहौल बना रहा है।

आले ख़लीफ़ा शासन उन लोगों के नाम को वोटर लिस्ट से निकालना चाहता है जो चुनाव का बहिष्कार कर सकते हैं ताकि इस तरह इस दिखावटी चुनाव में जनता की व्यापाक स्तर पर भागीदारी दर्शाए।

राजनैतिक टीकाकार आले ख़लीफ़ा शासन द्वारा संसदीय चुनाव के आयोजन की इस शासन द्वारा नागरिक अधिकार के घोर उल्लंघन पर पर्दा डालने की कोशिश के रूप में समीक्षा कर रहे हैं।

Top Stories