यूपी में मुस्लिम समाज के एक संगठन ने तीन तलाक़ पर लगाया बैन

यूपी में मुस्लिम समाज के एक संगठन ने तीन तलाक़ पर लगाया बैन

संभल। उत्तर प्रदेश के संभल जिले में रहने वाले मुस्लिमों के एक छोटे से समूह ने एक बार में ‘तीन तलाक़’ पर प्रतिबंध लगा दिया है। तुर्क समूह ने आपसी झगड़े या किसी बात को लेकर गुस्से में एक बार में तीन तलाक से लोगों को परहेज करने की सलाह दी है।

 

 

 

 

साथ ही कहा कि अपरिहार्य मामलों में केवल एक बार ही तलाक बोलना चाहिए और अपनी पत्नी को उसको हल करने के लिए समय देना चाहिए। तुर्क समाज की बैठक में यह निर्णय लिया गया जिसमें संभल जिले के 50 गांवों में लगभग 50,000 सदस्य रहते हैं।

 

 

 

 

पंचायत की बैठक की अध्यक्षता करने वाले असरार अहमद ने एक बार में ‘तीन तलाक़’ को गलत बताया। यह बेहद जरूरी है तो आदमी को तलाक कहना चाहिए, लेकिन केवल एक बार और पत्नी को एक महीने का समय दे। अहमद ने चेतावनी दी कि अगर कोई अपनी पत्नी को तीन तलाक एक बार में देता है तो पंचायत उसे सज़ा देगी।

 

 

 

 

 

अपनी पत्नी के साथ किसी भी विवाद के मामले को पंचायत के समक्ष चाहिए जो इसे सुलझाने का प्रयास करेगा। समूह ने पिछले महीने गौकशी पर प्रतिबंध लगा दिया था और दहेज की मांग और असाधारण शादी की मांग भी की थी। तुर्क समाज की पंचायत में आरिफ प्रधान ने तीन तलाक का मसला उठाया।

 

 

 

 

 

बैठक में पंचायत के चेयरमैन शाहिद हुसैन ने भी कहा कि लड़के आपसी घरेलू झगड़ों में एक बार में तीन तलाक न दें। इस दौरान बेटियों को पढ़ाने और आगे बढ़ाने की भी वकालत की गई। वहीं तुर्क बिरादरी की पंचायत में पुराने फैसलों की समीक्षा की गई।

 

 

 

 

पंचायत में रफतुलल्ला उर्फ नेता छिद्दा, डा. जावेद, असतुल्ला प्रधान, बदर, मोहम्मद तारिक पाशा, ताहिर, हनीफ प्रधान, बाबू, इमरान तुर्की, सलीम प्रधान, मुशाहिद हुसैन, मौलाना तालिब हुसैन, मौलाना तौसीफ, अशफाक, अक्कन, मोहम्मद अली, आबिद हुसैन आदि ने भाग लिया। अध्यक्षता असरार अहमद ने की। मुख्य अतिथि लियाकत चेयरमैन थे।

Top Stories