बैतूल मुकद्दस: इजरायली कंपनी ने अरब कर्मचारियों पर अरबी बोलने पर प्रतिबंध लगा दिया

बैतूल मुकद्दस: इजरायली कंपनी ने अरब कर्मचारियों पर अरबी बोलने पर प्रतिबंध लगा दिया
Click for full image
Two persons watch the sun setting on the Old City of Jerusalem, with the Muslim mosque of the Dome of the Rock in the center, on January 23, 2017. / AFP PHOTO / THOMAS COEX

इजराइल की एक स्थानीय कंस्ट्रक्शन कंपनी ने अपने हाँ काम करने वाले अरब और फिलिस्तीनी कर्मचारियों पर अरबी भाषा में बात करने पर प्रतिबंध आयद करके जातिवाद का सबूत पेश किया है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

फिलिस्तीन केंद्रीय सुचना केंद्र के मुताबिक इजरायली ‘अरूमा’ नामी फर्म के डायरेक्टर की ओर से एक नोटिस जारी किया गया है कि कंपनी का कोई कर्मचारी ‘अरबी भाषा में बात नहीं करेगा’। पत्रकार फरात निसार ने इब्रानी टीवी 2 के हवाले से बताया कि इजरायली अरूमा कंपनी के डायरेक्टर ने अरबी बोलने वाले सभी कर्मचारियों पर इब्रानी में बातचीत को अनिवार्य करार देते हुए अरबी बोलने पर प्रतिबंध आयद कर दी है।

कंपनी की ओर से जारी किये एक बयान में अरबी भाषा पर प्रतिबंध के क़दम को औचित्य का चोला पहनाने की कोशिश की गई है। जिसमें कहा गया है कि कंपनी की ओर से यह क़दम ग्राहकों का सम्मान के मद्देनजर किया गया है। हम चाहते हैं कि हमारे कर्मचारी एसी भाषा का इस्तेमाल न करें जिसे हमारे ग्राहक न समझ सकें।

Top Stories