Friday , December 15 2017

छात्राओं पर लाठीचार्ज नहीं हुआ बल्कि, कार्रवाई उन पर की गयी जो यूनिवर्सिटी की सम्पत्ति को आग लगा रहे थे– BHU कुलपति

BHU के कुलपति प्रो. गिरीश चन्द्र त्रिपाठी ने यूनिवर्सिटी परिसर में छात्राओं पर लाठीचार्ज की घटना का खंडन किया है। भाषा की ख़बर के मुताबिक प्रो. त्रिपाठी ने कहा है कि किसी भी छात्रा पर लाठीचार्ज नहीं हुआ है, बल्कि कार्रवाई उन पर की गयी जो यूनिवर्सिटी की सम्पत्ति को आग लगा रहे थे, पेट्रोल बम फेक रहे थे, पत्थरबाजी कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि 23 सितम्बर की रात को जब वें छात्राओं से मिलने त्रिवेणी छात्रावास जा रहा थे उस समय अराजक तत्वों ने उन्हे रोककर आगजनी एवं पत्थरबाजी शुरु कर दिया। इसी क्रम में कुलपति आवास पर भी पत्थरबाजी कर अराजकता फैलाने का प्रयास किया गया।

कुलपति ने कहा कि सिंह द्वार पर धरने की आड़ में मालवीय जी की प्रतिमा पर कालिख डालने का कुछ अराजक तत्वों ने प्रयास किया है। यह कृत्य राष्‍ट्र द्रोह से कम नहीं है।

कुलपति ने कहा है कि पीड़ित छात्रा और उसकी सहेलियों के साथ उन्होनें दो बार मुलाकात की और छात्राओं ने उन्हे बताया था कि धरने का संचालन खतरनाक किस्म के अपरिचित लोग कर रहे है।

उन लोगों ने पीड़ित छात्रा समेत उस की सहेलियों को धरना स्थल से उठकर जाने पर भी प्रतिबंध लगा रखा था। एक तरह से पीड़ित छात्रा को धरना स्थल पर बंधक बनाकर जबरन बिठाकर रखा गया।

पीड़ित छात्रा ने खुद यह बात उन्हें बतायी और धरना स्थल की बजाय छात्राओं से छात्रावास में चलकर बात करने को कहा। इस पर उन्हें रात में त्रिवेणी महिला छात्रावास जाने का फैसला लिया और गया भी जहाँ उपद्रवी तत्वों ने गेट के बाहर रास्ता जबरन रोक दिया और पत्थरबाजी करने लगे तथा पेट्रोल बम फेकने लगे।

उन्होंने कहा कि पुलिस ने ऐसे अपराधी तत्वों को कैम्पस से बाहर करने के लिये ही बल प्रयोग किया और किसी छात्रा पर कोई लाठी नहीं चलाई। इस बारे में खबर गलत प्रचारित की जा रही है।

Inputs- bhasha.ptinews.com

TOPPOPULARRECENT