Friday , June 22 2018

बीजेपी नेता की तेज रफ़्तार बोलेरो ने 19 को कुचला, ज्यादातर स्कूली बच्चे शामिल

बिहार के मुजफ्फरपुर में मीनापुर थाना क्षेत्र के मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी एनएच 77 स्थित धर्मपुर में शनिवार की दोपहर 1.10 बजे भाजपा नेता की तेज रफ्तार बोलेरो ने सड़क किनारे खड़े स्कूली बच्चों सहित 19 लोगों को रौंद दिया. घटना के बाद भागने के चक्कर में गाड़ी सड़क किनारे गड्ढे में पलट गयी. चालक को स्थानीय लोगों ने पकड़ने की काेशिश की, लेकिन वह जान बचा कर भाग चला. जानकारी मिलते ही मौके पर भारी संख्या में ग्रामीण जुट गये. सभी को इलाज के लिए एसकेएमसीएच लाया गया, जहां डॉक्टरों ने नौ बच्चे को मृत घोषित कर दिया. इसी बीच आक्रोशित लोगों ने स्कूल में जम कर तोड़फोड़ की. प्राचार्य समेत अन्य शिक्षकों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा. जान बचाने के लिए सभी शिक्षक एक कमरे में बंद हो गये. लोगों ने स्कूल के डेस्क व बेंच को एनएच पर रख कर आग लगा दी. सूचना मिलते ही मीनापुर थानेदार सोना प्रसाद सिंह व दारोगा उदय कुमार सिंह घटनास्थल पर पहुंचे.
लोगों को समझाने का प्रयास किया. इधर, एक साथ नौ बच्चों की मौत की सूचना मिलते ही डीएम धर्मेंद्र सिंह व एसएसपी विवेक कुमार तमाम पुलिस व प्रशासनिक पदाधिकारी के साथ एसकेएमसीएच पहुंचे . मीनापुर विधायक मुन्ना यादव भी अस्पताल में देर शाम तक जमे हुए थे. थोड़ी देर के लिए परिजनों ने अस्पताल में हंगामा भी किया. घटना की जानकारी मिलने पर पटना से नगर विकास व आवास मंत्री सुरेश शर्मा भी अस्पताल पहुंचे. उन्होंने दुर्घटना के शिकार हुए लोगों के परिजनों को हर संभव सहायता का आश्वासन दिया. डीएम ने मृतक के परिजनों को चार-चार लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की. मां-बेटी को ठोकर मारते ही बोलेरो हुई अनियंत्रित स्थानीय लोगों ने बताया कि गांव के डीलर के यहां से सकीना खातून व उसकी बेटी समीना खातून राशन लेकर लौट रहे थे. इसी बीच सीतामढ़ी की ओर से भाजपा नेता मनोज बैठा का बोर्ड लगे तेज रफ्तार बोलरो ने दोनों मां-बेटी को ठोकर मार दी.
दोनों को ठोकर लगते ही चालक तेजी से गाड़ी लेकर भागना चाहा. जल्दीबाजी में चालक ने सड़क किनारे खड़े स्कूल बच्चाें को रौंद दिया. मौके पर चीख पुकार मच गयी. मीनापुर पुलिस का कहना था कि बोलेरो सीतामढ़ी के सोनबरसा निवासी मनोज बैठा के नाम पर रजिस्टर्ड है. एक ही परिवार के चार हुए शिकार 75 साल की जरीफन खातून उम्र के अंतिम पड़ाव पर है. लेकिन शनिवार की घटना ने अब उसकी और जीन की इच्छा समाप्त कर दी. उसके चार-पोते-पोतियां अब इस दुनिया में नहीं हैं. उसके पुत्र मो वहीद की दो बेटियां शाहजहां व साजिया मौत का शिकार हो गयी. वही मो शाहिद के घर में भी मातम छा गया. उसकी बेटी सफीना की भी मौत हो गयी. उसी टोले अनवारुल हक का भी घर है. उसकी बेटी नुसरत भी इस घटना में नहीं रही. देर शाम तक जरीफन का रो-रो कर बुरा हाल था. वह बार-बार बेहोश हाे जा रही थी. मृतकों की सूची 1. शाहजहां खातून 10 साल, पिता- मो वहीद 2. सफीना खातून, पिता- मो शाहिद 3. नुसरत खातून,दस साल, पिता- अनवारुल हक, 4. सलमान अंसारी, 8 साल, पिता- इस्लाम अंसारी 5. साजिया , पिता- मो वहीद 6. नीता कुमारी 12 साल, पिता- इंद्रदेव सहनी 7. रचना कुमारी ,12 साल, पिता- काशीनाथ सहनी 8. अनिशा ,12 साल, पिता- गनौर सहनी 9. बिरजू कुमार ,12 साल, पिता- गगनदेव सहनी जख्मी की सूची 1 चमन कुमार 9 वर्ष पिता इंद्रदेव साहनी 2 चांदनी खातून 10 वर्ष पिता सइद अंसारी 3 श्याम कुमार 6 वर्ष पिता सोनेलाल सहनी 4 मोहम्मद अरमान 10 वर्ष 5 मोहम्मद इरशाद 12 साल 6 जगदेव सहनी 25 वर्ष पिता सुखारी सहनी 7 मीरा लाल कुमार 7 वर्ष पिता रामेश्वर साहनी 8 अमरजीत कुमार 8 वर्ष 9 समीना खातून 40 वर्ष 10 सकीना खातून 65 वर्ष तक जमाल धर्मपुर आंखों देखी…
सोनी कुमारी- तीसरी कक्षा की छात्रा (राजकीय उत्क्रमित मध्य विद्यालय, धर्मपुर पूर्वी) धर्मपुर मुख्य चौक की रहने वाली सोनी कुमारी राजकीय उत्क्रमित मध्य विद्यालय में तीसरी कक्षा में पढ़ती है. वह बताती है कि दोपहर एक बजे स्कूल में छुट्टी हुई थी. शनिवार होने के कारण सभी बच्चों को खिचड़ी खिलाया गया था. छुट्टी होने के बाद वह सभी बच्चों के साथ स्कूल से निकल कर एनएच पर आ गयी थी. सभी बच्चे सड़क पार कर अपने-अपने घर जाने की तैयारी में थे. वह अकेले ही अपने घर की बढ़ चली. इसी बीच तेज आवाज हुई तो वह पीछे मुड़ी तो देखी कि सड़क पर नीता, रचना सहित कई उसके दोस्त खून से लथपथ थे.

TOPPOPULARRECENT