Sunday , June 24 2018

राजस्थान में बीजेपी विधायक के बेटे को विधानसभा में मि‍ली चपरासी की नौकरी, भ्रष्टाचार का आरोप

राजस्थान के जमवारामगढ़ से बीजेपी के विधायक जगदीश नारायण मीणा के बेटे रामकृष्ण मीणा का चयन  विधानसभा में चपरासी के पद पर चयन सवालों के घेरे में है.  खबर के मुताबिक राजस्थान विधानसभा में चपरासी के पद के लिए 18 पोस्ट निकले थे. इस पर करीब 25,000 लोगों ने आवेदन किए थे. इनमें से करीब 10 हजार बीए, एमए, डबल एमए, एमटेक और कुछ पीएचडी थे. लेकिन इस नौकरी में इनका सलेक्शन नहीं होना बड़ी खबर नहीं है, बल्कि दसवीं पास बीजेपी विधायक के बेटे का चपरासी के पद पर सलेक्शन होना चर्चा का विषय बना हुआ है.

जानकारी के मुताबिक मीणा के बेटे प्राइवेट से परीक्षा देकर दसवीं पास हुए हैं. अब आरोप लग रहे हैं कि विधायक ने अपने कम पढ़े-लिखे बेटे को रसूख के बल पर चपरासी बना दिया.

चपरासी के पद पर परीक्षा देने वाले पढ़े-लिखे उम्मीदवारों का कहना है कि 18 के 18 पदों पर रसूखदारों के रिश्ते नातेदारों का चयन हुआ है. कोई न कोई किसी नेता या अधिकारी के यहां जुड़ा हुआ है. विधायक जी का कहना है कि मेरे बेटे रामकृष्ण ने अपनी मेहनत से यह नौकरी पाई है.

विधायक के बेटे रामकृष्ण ने बताया कि वह खेती करता था और पिता के बताए फील्ड वर्क का काम देखता था. लेकिन पिता ने कहा कि विधानसभा में नौकरी कर ले तो मैंने अप्लाई कर दिया था. वही कांग्रेस  की प्रवक्ता अर्चना शर्मा ने विधानसभा में चपरासी के पद पर हुए बहाली को धांधली बताया है और जांच की मांग की है.

TOPPOPULARRECENT