Thursday , December 14 2017

हल्दीघाटी युद्ध में अकबर की जगह महाराणा प्रताप को विजेता घोषित करने की तैयारी में भाजपा

हल्दीघाटी का युद्ध अकबर और महाराणा प्रताप के बीच हुआ था. इस युद्ध को अब तक बेनतीजा माना जाता रहा था. लेकिन राजस्थान में विश्वविद्यालय स्तर पर इतिहास की किताबों में इस तथ्य को बदलने की तैयारी चल रही है. वसुंधरा राजे सरकार के तीन मंत्रियों ने एक प्रस्ताव दिया है कि इस युद्ध में महाराणा को जिताया जाए.

प्रस्ताव के मुताबिक, अब छात्रों को पढ़ाया जाएगा कि हल्दीघाटी की लड़ाई में महाराणा प्रताप ने मानसिंह के नेतृत्व में लड़ रही अकबर की सेना को हरा दिया था. इतिहास की किताबों के अनुसार 1576 में हल्दीघाटी में हुई लड़ाई के बाद महाराणा प्रताप पहाड़ों में चले गए थे.

महाराणा प्रताप की जीत का यह दावा राजस्थान विद्यापीठ विश्वविद्यालय में मीरा कन्या महाविद्यालय के इतिहासकार डॉ. चन्द्रशेखर शर्मा ने किया है. डॉ. चन्द्रशेखर शर्मा का मानना है कि उन्होंने खुद इस विषय पर रिसर्च किया है और पाया है कि महाराणा प्रताप और अकबर के बीच का यह युद्ध ड्रॉ हुआ था.

इस प्रस्ताव को फिलहाल विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर राजेश्वर सिंह ने हिस्ट्री बोर्ड ऑफ स्टडीज के पास भेज दिया है. बताया जा रहा है कि एक बोर्ड इसकी जांच करेगा और फिर अकैडमिक काउंसिल को अप्रूवल के लिए भेजा जाएगा. अगर अप्रूवल मिला तो इतिहास की किताबों में बदलाव कर हल्दीघाटी के युद्ध में अकबर की फौज की बजाय महाराणा प्रताप को विजेता घोषित कर दिया जाएगा.

गौरतलब है कि इससे पहले हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर दिल्ली स्थित अकबर रोड का नाम बदलकर महाराणा प्रताप रोड रखने का सुझाव दे चुके हैं. उससे पहले राजस्थान सरकार भी खुद पिछले साल किताबों में अकबर के नाम के ‘द ग्रेट’ टाइटल को छीनकर महाराणा प्रताप को दे दिया था.

TOPPOPULARRECENT