Monday , January 22 2018

धर्मांतरण के आरोप में गिरफ्तार पादरी से पुलिस ने पूछा, कश्मीर में मुसलमानों का धर्म क्यों नहीं बदलते?

सतना के एक गांव में धर्मांतरण की सूचना के बाद बवाल मच गया। गुरुवार देर रात पुलिस एक समुदाय से जुड़े कुछ लोगों को थाने ले गई। इसी दौरान दूसरे पक्ष के कार्यकर्ता भी थाने पहुंच गए और हंगामा किया। कुछ लोगों ने एक कार में आग लगा दी। पुलिस ने इस मामले में प्रोफेसर समेत पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। प्रोफेसर को जेल भेज दिया गया है।

वही गिरफ्तार किये गए पादरी  का आरोप है की पुलिस ने उनसे आपतिजनक सवाल किये हैं , इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक पुलिस ने कहा  आप केरल से यहां क्यों आते हो जबकि लोग यहाँ हिन्दू हैं।  केवल हिंदुओं को ही परिवर्तित करते हो ? कश्मीर में आप मुसलमानों को ईसाई धर्म में परिवर्तित करने के लिए क्यों नहीं जाते? ” 

बता दें की गुरुवार रात लगभग 11.30 बजे सिविल लाइन थाना क्षेत्र के भुमकहर गांव के धर्मेन्द्र डोहर ने 100 डायल फोन लगाया कि कुछ लोग उसका धर्मांतरण करा रहे हैं। ग्रामीणों ने इन्हें घेरकर रखा था। पुलिस मौके पर पहुंची और एक समुदाय से जुड़े तकरीबन दो दर्जन लोगों को थाने ले आई।

इसी दौरान किसी ने थाने के बाहर खड़ी कार में आग लगा दी। यह कार कॉलेज की बताई जा रही है। धर्मेंद्र डोहर के आवेदन पर प्रोफेसर एम जार्ज के विरुद्ध धर्मान्तरण अधिनियम 1968 के तहत मामला दर्ज कर शुक्रवार को न्यायालय में पेश किया। जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।

प्रोफेसर एम जार्ज का कहना है कि वे गांव में एक कार्यक्रम मनाने की तैयारी करने गए थे। वहीं आवेदक धर्मेंद्र बार-बार बयान बदल रहा है। कभी वह पुलिस को बताता है कि उसे 5 हजार रुपए देकर 10 दिसंबर को स्नान कराने के बाद भोजन कराया गया और उसका धर्म बदल दिया गया तो कभी कहता है कि धर्म नहीं बदला था। गुरुवार को पुलिस न पहुंचती तो उसका धर्म परिवर्तन हो जाता।

 

TOPPOPULARRECENT