‘यूपी कोका’ का इस्तेमाल गरीबों, दलितों और धार्मिक अल्पसंख्यकों के शोषण के लिए होगा: मायावती

‘यूपी कोका’ का इस्तेमाल गरीबों, दलितों और धार्मिक अल्पसंख्यकों के शोषण के लिए होगा: मायावती
Click for full image
BSP chief Mayawati visited in Sabbirpur village of Saharanpur district on tuesday and met to the victims. Express Photo by Gajendra Yadav. 23.05.2017.

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के अध्यक्ष मायावती ने उत्तर प्रदेश नियंत्रण संगठित अपराध अधिनियम (यूपीकोका) को जनता विरोधी बताए हुए कहा है कि राज्य सरकार गरीबों, दलितों और धार्मिक अल्पसंख्यकों के शोषण के लिए नए कानून का इस्तेमाल करेगी।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

सुश्री मायावती ने आज यहां एक बयान जारी करके कहा है महाराष्ट्र के मकोका के शैली पर बनाये गये कानून यूपीकोका’ का इस्तेमाल भारतीय जनता पार्टी सरकार राजनितिक द्वेष के लिए कर सकती है। कानून बन जाने से आम जनता के लिए यह लानत साबित होगा। उन्होंने जनहित में इसे वापस लेने की मांग की।

उन्होंने कहा कि राज्य में कानून का दुरुपयोग करके मासूम दलितों, पिछड़े वर्गों और समाज के अन्य लोगों को जेलों की सलाखों के पीछे भेजा जा रहा है। उन्होंने कहा कि उर्दू में शपथ लेने पर बसपा के अलीगढ के काउंसिलर पर सांप्रदायिक भावनाओं को भड़काने का गलत आरोप लगाकर उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। बसपा अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा सरकार अपराधियों और माफिया को नियंत्रित करने के नाम पर केवल जाति और विशेष संप्रदायों को पकड़ रही है।

Top Stories