Tuesday , November 21 2017
Home / Khaas Khabar / यूपी: DGP सुखलान के मुकाबले जावीद अहमद के कार्यकाल में बेहतर थी कानून व्यवस्था

यूपी: DGP सुखलान के मुकाबले जावीद अहमद के कार्यकाल में बेहतर थी कानून व्यवस्था

2017 विधानसभा चुनाव के दौरान कानून व्यवस्था के मुद्दे पर समाजवादी पार्टी को घेरने वाली भारतीय जनता पार्टी आज खुद ही उस कटघरे में खड़ी दिखाई दे रही है। बात सर एक दो शहरों की नहीं बल्कि पूरे प्रदेश में आपराधिक आंकड़े देखें तो भाजपा सरकार में कानून व्यवस्था फेल साबित हुई है।

सूबे में भाजपा सरकार के गठन के बाद पुलिस द्वारा दर्ज किये गए आंकड़े के मुताबिक, 20 मार्च 2017 से 15 मई 2017 तक के आंकड़ों को अगर देखा जाये तो लखनऊ जिले में केवल एक हत्या पंजीकृत हैं। जबकि अगर बात मई महीने के शुरुआत के 15 दिनों की करें तो आधा दर्जन से अधिक हत्याएं और एक डकैती पंजीकृत हुई है।

पूर्व डीजीपी जावीद अहमद के शुरुआती 45 दिन (7 मार्च से 21 अप्रैल 2017) के कार्यकाल में कुल 28,2102 आपराधिक मुकदमें दर्ज हुए। वहीँ डीजीपी सुलखान सिंह के कार्यकाल के 45 दिन (22 अप्रैल से 5 जून 2017) में अब तक 27,2895 आपराधिक मुकदमें दर्ज हुए। यह आंकड़े यूपी क्राइम मैपिंग के अनुसार हैं।

जावीद अहमद के शुरूआती 45 दिन में कितने अपराध

आगरा जोन में 1563 हत्या, 2898 हत्या के प्रयास, 670 दहेज हत्या, 1252 बलात्कार, 3561 दंगे, 2780 अपहरण, 2 हिरासत में हिंसा, 157 डकैती, 1676 लूट, 143 चेन लूट, 1424 सेंधमारी, 4257 चोरी, 11718 वाहन चोरी, 5739 महिला अपराध, 549 बाल अपराध, 9415 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 47804 अपराध हुए।

इलाहबाद जोन में 751 हत्या, 1025 हत्या के प्रयास, 453 दहेज हत्या, 973 बलात्कार, 1219 दंगे, 1633 अपहरण, 2 हिरासत में हिंसा, 61 डकैती, 815 लूट, 237 चेन लूट, 1140 सेंधमारी, 2090 चोरी, 3979 वाहन चोरी, 3523 महिला अपराध, 660 बाल अपराध, 5439 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 24000 अपराध हुए।

बरेली जोन में 1363 हत्या, 2340 हत्या के प्रयास, 528 दहेज हत्या, 1957 बलात्कार, 1771 दंगे, 2987 अपहरण, 19 हिरासत में हिंसा, 156 डकैती, 1368 लूट, 114 चेन लूट, 1406 सेंधमारी, 3648 चोरी, 5018 वाहन चोरी, 6850 महिला अपराध, 779 बाल अपराध, 7650 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 37954 अपराध हुए।

गोरखपुर जोन में 904 हत्या, 768 हत्या के प्रयास, 578 दहेज हत्या, 1318 बलात्कार, 1838 दंगे, 1988 अपहरण, 3 हिरासत में हिंसा, 165 डकैती, 707 लूट, 55 चेन लूट, 1283 सेंधमारी, 1749 चोरी, 3020 वाहन चोरी, 3141 महिला अपराध, 1060 बाल अपराध, 5603 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 24,180 अपराध हुए।

कानपुर जोन में 1103 हत्या, 1420 हत्या के प्रयास, 666 दहेज हत्या, 739 बलात्कार, 1495 दंगे, 2754 अपहरण, 1 हिरासत में हिंसा, 93 डकैती, 1049 लूट, 141 चेन लूट, 952 सेंधमारी, 2957 चोरी, 5977 वाहन चोरी, 5193 महिला अपराध, 623 बाल अपराध, 8920 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 34,083 अपराध हुए।

लखनऊ जोन में 1546 हत्या, 1276 हत्या के प्रयास, 762 दहेज हत्या, 1452 बलात्कार, 1876 दंगे, 3032 अपहरण, 1 हिरासत में हिंसा, 137 डकैती, 1003 लूट, 344 चेन लूट, 1723 सेंधमारी, 4015 चोरी, 6670 वाहन चोरी, 4340 महिला अपराध, 767 बाल अपराध, 8829 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 37773 अपराध हुए।

मेरठ जोन में 1753 हत्या, 2938 हत्या के प्रयास, 391 दहेज हत्या, 1405 बलात्कार, 1757 दंगे, 2711 अपहरण, 5 हिरासत में हिंसा, 147 डकैती, 2569 लूट, 363 चेन लूट, 1493 सेंधमारी, 7329 चोरी, 19122 वाहन चोरी, 6126 महिला अपराध, 759 बाल अपराध, 8509 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 57377 अपराध हुए।

वाराणसी जोन में 741 हत्या, 792 हत्या के प्रयास, 405 दहेज हत्या, 747 बलात्कार, 1331 दंगे, 1511 अपहरण, 2 हिरासत में हिंसा, 52 डकैती, 727 लूट, 73 चेन लूट, 1080 सेंधमारी, 2088 चोरी, 2866 वाहन चोरी, 2204 महिला अपराध, 299 बाल अपराध, 4013 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 18931 अपराध हुए।

डीजीपी सुलखान सिंह के 45 दिन में अपराध

आगरा जोन में 1535 हत्या, 2867 हत्या के प्रयास,658 दहेज हत्या, 1241 बलात्कार, 3560 दंगे, 2828 अपहरण, 1 हिरासत में हिंसा,155 डकैती, 1708 लूट,146 चेन लूट, 1421 सेंधमारी, 4277 चोरी, 11541 वाहन चोरी, 5777 महिला अपराध, 539 बाल अपराध, 9199 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 47453 अपराध हुए।

इलाहबाद जोन में 724 हत्या, 978 हत्या के प्रयास, 438 दहेज हत्या, 930 बलात्कार,1159 दंगे, 1571 अपहरण, 2 हिरासत में हिंसा, 55 डकैती, 790 लूट, 211 चेन लूट, 1094 सेंधमारी, 1993 चोरी, 3749 वाहन चोरी, 3359 महिला अपराध,631 बाल अपराध, 5205 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 22889 अपराध हुए।

बरेली जोन में 1302 हत्या, 2293 हत्या के प्रयास, 506 दहेज हत्या, 1905 बलात्कार, 1738 दंगे, 2906 अपहरण, 19 हिरासत में हिंसा, 150 डकैती, 1332 लूट, 111 चेन लूट,1350 सेंधमारी, 3514 चोरी, 4784 वाहन चोरी, 6745 महिला अपराध,757 बाल अपराध, 7342 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 36754 अपराध हुए।

गोरखपुर जोन में 858 हत्या, 734 हत्या के प्रयास, 543 दहेज हत्या, 1249 बलात्कार,1795 दंगे,1926 अपहरण, 3 हिरासत में हिंसा, 157 डकैती, 675 लूट, 53 चेन लूट, 1204 सेंधमारी, 1703 चोरी, 2896 वाहन चोरी,3019 महिला अपराध, 1019 बाल अपराध, 5304 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 23138 अपराध हुए।

कानपुर जोन में 1088 हत्या, 1353 हत्या के प्रयास, 647 दहेज हत्या, 708 बलात्कार, 1502 दंगे, 2704 अपहरण, 1 हिरासत में हिंसा, 89 डकैती,1009 लूट, 134 चेन लूट, 957 सेंधमारी, 2884 चोरी, 5726 वाहन चोरी, 5018 महिला अपराध, 605 बाल अपराध, 8614 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 33039 अपराध हुए।

लखनऊ जोन में 1468 हत्या, 1208 हत्या के प्रयास, 727 दहेज हत्या, 1365 बलात्कार,1837 दंगे, 2870 अपहरण, 1 हिरासत में हिंसा, 135 डकैती, 965 लूट, 327 चेन लूट, 1615 सेंधमारी, 3843 चोरी, 6341 वाहन चोरी, 4149 महिला अपराध, 704 बाल अपराध, 8320 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 35870 अपराध हुए।

मेरठ जोन में 1682 हत्या, 2898 हत्या के प्रयास, 376 दहेज हत्या, 1361 बलात्कार, 1770 दंगे, 2644 अपहरण, 5 हिरासत में हिंसा, 139 डकैती, 2481 लूट,366 चेन लूट, 1407 सेंधमारी, 7179 चोरी, 18306 वाहन चोरी,6002 महिला अपराध, 756 बाल अपराध, 8280 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 55652 अपराध हुए।

वाराणसी जोन में 705 हत्या, 757 हत्या के प्रयास, 382 दहेज हत्या, 706 बलात्कार,1290 दंगे, 1432 अपहरण, 2 हिरासत में हिंसा, 49 डकैती, 695 लूट, 69 चेन लूट, 1011 सेंधमारी, 1977 चोरी, 2712 वाहन चोरी, 2138 महिला अपराध, 288 बाल अपराध, 3797 सड़क हादसे हुए इनमें कुल मिलकर 18010 अपराध हुए।

साभार- पत्रिका

 

TOPPOPULARRECENT