अजमेर दरगाह में 450 साल से रोज़ बनती है 2400 किलो खिचड़ी

अजमेर दरगाह में 450 साल से रोज़ बनती है 2400 किलो खिचड़ी
Click for full image

नई दिल्ली। दिल्ली में  इंटरनेशनल फूड फेस्टीवल में 800 किलो खिचड़ी बनाने का रिकॉर्ड कायम किया गया, लेकिन देश में एक ऐसी भी जगह है जहां रोज़ाना 7200 किलों प्रसाद बनाया जाता है।

बता दें कि अजमेर स्थित सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में ऐसा रिकॉर्ड रोज बनता है। दरगाह स्थित बड़ी देगी में 120 मण यानी 4800 किलों और छोटी देग में 60 मण यानी 2400 किलो प्रसाद ( तबर्रुक) मीठे चावल के रुप में रोज पकाया जाता है।

यानी यहां रोजाना 7200 किलों प्रसाद रोजान बनता है और ये प्रसाद हजारों जायरीन यानी श्रद्धालुओं में बांटा भी जाता है। खादिमों का कहना है कि देखा जाए तो ख्वाजा साहब की दरगाह में तो इस तरह का वल्ड रिकॉर्ड बादशाह अकबर के जमाने से बनता आ रहा है।

इस तरह के कार्यक्रमों में दरगाह स्थित देग को भी दिखाया जाना चाहिए। बता दें कि ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह स्थित देग की खासियत ये है कि इसमे केवल शाकाहारी भोजन ही पकाया जाता है। यहां तक की इसमें लहसुन और प्याज भी नहीं डाले जाते हैं।

Top Stories