Sunday , July 22 2018

बरेली : निदा खान को दिया गया तलाक अवैध, हर महीने देना होगा 12000 रुपए गुजारा भत्ता

बरेली। निदा खान और शीरान रजा खान प्रकरण में फैमिली कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए शीरान की तरफ से निदा को दिए तलाक को अवैध बताया है। साथ ही शीरान को गुजारा भत्ता के रूप में प्रति माह 12 हजार रुपये देने आदेश भी दिए। उल्लेखनीय है कि आला हजरत खानदान के शीरान रजा खान का निकाह 18 फरवरी 2015 में निदा खान से हुआ था।

बकौल निदा, इसके बाद ससुराल वालों की ओर से दहेज के लिए उनके परिजनों को परेशान किया जाने लगा। विरोध पर उनसे मारपीट की जाती थी। 16 जुलाई 2015 को उन्हें घर से निकाल दिया गया। निदा की ओर से पुलिस में शिकायत की गई थी। निदा ने कहा कि अब वह अपने पति शीरान रजा खान के लिए जेल की सजा की मांग कर रही है और तीन तलाक पर कानून की प्रतीक्षा कर रही है।

23 वर्षीय निदा ने कहा कि उन्हें अदालत पर भरोसा था। अब वह लॉ की पढ़ाई पूरी कर प्रैक्टिस करेगी और अपने जैसी महिलाओं के हक के लिए लड़ाई और तेज करूंगी। वर्तमान में वह 20 ऐसी पीड़ित महिलाओं की मदद कर रही है। निदा का कहना है कि उसने मेरी जिंदगी बर्बाद की है ऐसे में उसको कम से कम सात साल जेल की सजा मिले। केंद्र सरकार को बिल में संशोधन करना चाहिए और सजा का कार्यकाल तीन से बढाकर सात साल कर देना चाहिए।

निदा ने कहा कि 18 फरवरी, 2015 को शीरान से शादी करने के तुरंत बाद उसके ससुराल वालों ने दहेज के लिए उसे यातना देना शुरू कर दिया। मेरे पति और उनके परिजन एक एसयूवी चाहते थे, जो मेरे माता-पिता नहीं दे सकते थे। उन्होंने सभी नौकरानियों को निकाल दिया और मुझे पूरे घर का काम करने के लिए कहा। उस साल मार्च में मेरी एम कॉम में प्रथम वर्ष की परीक्षा में बैठने की इजाजत नहीं दी। जुलाई में जब मैंने ससुराल वालों से कहा था कि मैं गर्भवती हूं तब उन्होंने मुझे मारा और बाद में मुझे घर से निकाल दिया।

TOPPOPULARRECENT