Monday , September 24 2018

नफरत भरे अपराध और ‘कारवां-ए-मोहब्बत’ का प्यार का सफर

मानवाधिकार कार्यकर्ता और सिविल सोसाइटी के सदस्यों द्वारा इस नए साल में ‘कारवां-ए-मोहब्बत’ यात्रा शुरू की गई जिसका उद्देश्य भीड़ द्वारा बेरहमी से पीट पीट कर जान लेने की घटनाओं के पीड़ितों के प्रति अपनी एकजुटता दिखाना है। हमने सितंबर 2017 में आठ राज्यों असम, बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान और मध्य प्रदेश में यात्रा की है जिसमें हम शोक संतप्त परिवारों को आश्वस्त करेंगे कि वे अकेले नहीं हैं, देश में ऐसे कई लोग हैं जो उनकी देखभाल करते हैं और उनके साथ पीड़ित हैं।

हम इसको देश के बाकी हिस्सों को बताना जारी रखेंगे, सिर्फ एकता के लिए नहीं, बल्कि हमारी अंतरात्मा से अपील करने के लिए। वरिष्ठ और युवा पत्रकारों और लेखकों, वकील, फोटोग्राफर, एक ट्रेड यूनियनिस्ट, एक फिल्म निर्माता, शोधकर्ता, छात्र और अधिकार और श्रमिक कोलकाता में कारवां-ए-मोहब्बत में शामिल हुए। मेरे लिए यह उचित था, लेकिन भावनात्मक रूप से इस साल के कारवां को अफ़राजुल खान के घर जाने के लिए शुरू किया गया था, जिसकी पिछले वर्ष क्रूर हत्या कर दी गई थी। मैं 6 दिसंबर 2017 को राजसमंद में एक आदमी की हत्या कर फिर जिंदा जला दिया।

हम राजसमंद में अफ़राजुल खान के दामाद में मिले। मालदा में अफ़राजुल खान के परिवार से मिले। कठिन परिश्रम के लंबे वर्षों का फल यह था कि उनका परिवार पक्के ईंट के घर में रहता है। हम उनकी विधवा गुलबहार बीबी से मिले। अफराज़ुल की विधवा बीबी के चेहरे पर तनाव था। उनकी बेटियों ने उनके पिता को याद करते हुए अपने पूरे जीवन को अपनी देखभाल में समर्पित कर दिया था।

उसने अपनी सारी बेटियों को शिक्षित किया और दो की शादी कर दी। सबसे कम उम्र की 16 वर्षीय हबीबा खातून 10 वीं कक्षा में है और आगे पढ़ना चाहती है। एक निजी आवासीय विद्यालय ने पिता की क्रूर मौत के बाद उसे प्रवेश दिया था। उनकी सबसे बड़ी बेटी ज्योत्स्नारा बेगम ने कहा कि मेरे पिता एक अच्छे इंसान थे।

हमारे पास कोई भाई नहीं है अब हमारी देखभाल करने के लिए कोई नहीं है। मैं चाहती हूं कि उनके हत्यारे को फांसी पर लटका दिया जाए। मुसलमानों की हत्याओं के बाद इन दिनों पूरे भारत में वे भय से जी रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT