Thursday , July 19 2018

गुजरात में घोड़ा रखने की वजह से दलित युवक की हत्या

गुजरात में फिर एक बार दलित लड़के को सिर्फ इस लिए मार दिया गया कि उसका कसूर केवल इतना था कि उसने शौक में एक घोड़ा पाल लिया था.

वारदात भावनगर से 60 किमी. दूर स्थित टींबी गांव की है. जहां रहने वाले 21 वर्षीय दलित युवक प्रदीप राठौड़ को घोड़ा रखने का शौक था. वह अक्सर घुड़सवारी किया करता था. गुरुवार की शाम वो अपने घोड़े पर जा रहा था. तभी रास्ते में कुछ दबंगों ने उसे रोका और घोड़े लेकर कहासुनी करने के बाद तेजधार हथियार से प्रदीप पर हमला कर दिया.

इस दौरान दबंगों ने उस पर कई वार किए. जिसकी वजह से मौके पर ही उसकी मौत हो गई. सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर भावनगर के सरकारी अस्पताल में भिजवाया. इस संबंध में पुलिस ने दो लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है.

गांव में खेती कर अपना घर चलाने वाले कालू ने बेटे प्रदीप का शौक पूरा करने के लिए 30 हजार रुपये का घोड़ा खरीद कर दिया था. लेकिन गांव में कुछ उच्च जाति के लोगों को ये रास नहीं आया. वे लगातार कालू और प्रदीप को घोड़े बेचने के धमकी दे रहे थे. उनका कहना था कि कोई दलित घोड़े की सवारी कैसे कर सकता है.

मृतक के पिता कालू का कहना है कि धमकियों की वजह से उन्होंने घोड़ा बेचने का मन बना लिया था. लेकिन बेटे की जिद के आगे वो मजबूर थे. उन्हें लग रहा था कि मामला सुलझ जाएगा. मगर दबंगों ने उनके बेटे की जान ले ली.इस वारदात से पूरा गांव सकते में है. पुलिस आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है.

TOPPOPULARRECENT