Friday , September 21 2018

पश्चिम बंगाल आगे के खतरे में!

तृणमूल कांग्रेस के भीतर कुछ लोगों का विश्वास है कि पश्चिम बंगाल में भाजपा के विस्तार के लिए ब‌र्द्धमान बम विस्फोट मामले में केंद्र जानबूझकर कुछ अधिक ही प्रतिक्रिया जता रहा है। कुछ लोगों का यह भी कहना है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की यह धारणा है कि भारत के भीतर, खासकर पश्चिम बंगाल में बांग्लादेशी इस्लामिक चरमपंथियों अथवा कट्टरपंथियों की तरफ से जो खतरा दिखाया जा रहा है वह और कुछ नहीं, बल्कि मीडिया के एक समूह द्वारा सनसनी फैलाने और उनके साथ हिसाब चुकता करने के लिए किया जा रहा है। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और राष्ट्रीय जांच एजेंसी यानी एनआइए के साथ हुई विस्तृत बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री ने पश्चिम बंगाल में कट्टरपंथियों के ऐसे किसी तंत्र की उपस्थिति से इन्कार किया है। यह देखना है कि इन्कार की इस मुद्रा के साथ तृणमूल कांग्रेस कितना आगे बढ़ पाती है? एक चतुर राजनेता होने के नाते जमीनी वास्तविकता को समझते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अंतत: नई दिल्ली के साथ पूर्ण सहयोग करने का वादा किया है। शुरुआत में सुरक्षा खतरों की उपेक्षा करने वाली बंगाल सरकार ने अपनी पूर्व की नीति में कुछ बदलाव किया है।

पश्चिम बंगाल में उभरा खतरा मुख्यत: दो वजहों से है। पहली बात यह कि कोलकाता नगर निगम के साथ अन्य नगर निकायों का चुनाव 2015 की गर्मियों में होना है। शहरी पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने अपनी बढ़ती अलोकप्रियता को भांप लिया है। उनकी अलोकप्रियता बढ़ने का कारण उच्च स्तर पर तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की हालिया कुछ गतिविधियों के साथ साथ माकपा के कैडर राज का नए रूप में सामने आना भी है। इस तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं कि सत्ताधारी पार्टी अपने मुस्लिम वोट बैंक को अपने साथ बनाए रखने के लिए अल्पसंख्यक तुष्टीकरण की नीति पर चल रही है।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के मजबूत बिंदु कभी नहीं रहे हैं उनकी सक्रिय प्रतिक्रियावादी राजनीति ने राजनीतिक विरोधियों को प्रेरित किया है कि वे एक अवसरवादी के रूप में वर्णन करते हैं जो सभी विचारधाराओं को हवाओं में फेंकने के लिए तैयार है अगर इसका मतलब लोकप्रिय समर्थन हासिल करने का मतलब है।

लेकिन साल के लिए अल्पसंख्यकों के कारणों को स्वीकार करने के बाद – वे बंगाल के लगभग 27% बंगाल का हिस्सा हैं 9.13 करोड़ आबादी – सुश्री बनर्जी ने प्रतिस्पर्धी सांप्रदायिकता के एक खतरनाक दौर में गिरफ्तार किया है, जो कि भगवा ताकतों को उठाते हुए राज्य में जमीन हासिल कर रहे हैं, हालांकि धीरे-धीरे, हाल के दिनों में।

भाजपा, जो फ्रिंज बल है, वोट हिस्से में आगे बढ़ रही है। यही कारण बताता है कि ये स्थानीय चुनाव इतने हिंसक क्यों हुए हैं और इनकी लड़ाई लड़ी है। आज जो सांप्रदायिक राजनीति हम देखते हैं, वह वास्तव में 2017 में शुरू हुई, जब संघ परिवार ने उत्साह से बंगाल में राम नवमी जुलूस का आयोजन किया, जिसमें भाग लेने वाले हथियारों को हथियार रखते थे –

सबसे ज्यादा दक्षिण कोलकाता के मुख्यमंत्री भवन के भवानीपुर में। सुश्री बनर्जी, भोंसले राजनीतिज्ञ हैं कि उन्होंने विपक्ष का सामना करने का फैसला राम नवमी और हनुमान जयंती समारोहों से किया।

पिछले साल, उसने पुलिस को किसी को भी बदनाम करने के लिए कहा था, जिसने बदमाश बनाया था। लेकिन इस साल उसने कहा था कि पुराने राम नवमी जुलूस जो साल के लिए हथियार ले रहे हैं उन्हें पुलिस कार्रवाई से छूट मिलेगी।

संदेश स्पष्ट नहीं हो सकता था पिछले कुछ हफ्तों में, उन्होंने भाजपा को हिंदुत्व आयात करने की आलोचना भी की, जो कि बंगाल के उदार हिंदू संस्कृति से अलग है। सुश्री बनर्जी के पास उनकी राजनीतिक मजबूरी है।

उसे भगवा हमले के खिलाफ अपने मैदान की रक्षा करना पड़ता है। उन्हें 201 9 तक एक विरोधी-भाजपा फ्रंट को एक साथ खींचने पर अपनी ऊर्जा पर ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है।

वह जानता है कि अन्य राज्यों में असेंबल विरोधी के लिए क्षतिपूर्ति करने के लिए, भाजपा अपने संसाधनों को बंगाल में केंद्रित करेगी जो 42 लोकसभा सीटों की पेशकश करती है।

लेकिन उनकी प्रतिक्रिया एक सांप्रदायिक कड़ाही में बंगाल को डूब सकती है। अगर रानीगंज और आसनसोल में राम नवमी के संघर्ष कोई संकेत हैं, तो प्रतिस्पर्धी सांप्रदायिकता एक रचनात्मक तरीके से आगे नहीं हो सकती है

TOPPOPULARRECENT