नई हज नीति पर मोदी सरकार और केंद्रीय हज समिति को दिल्ली हाईकोर्ट का नोटिस

नई हज नीति पर मोदी सरकार और केंद्रीय हज समिति को दिल्ली हाईकोर्ट का नोटिस
Click for full image
Muslim pilgrims from all around the world circle around the Kaaba at the Grand Mosque, in the Saudi city of Mecca on September 14, 2016. More than 1.8 million faithful from around the world have been attending the annual pilgrimage which officially ends on September 15. / AFP / AHMAD GHARABLI (Photo credit should read AHMAD GHARABLI/AFP/Getty Images)

नई दिल्ली: दिल्ली हाईकोर्ट नई हज नीति के मामले में केंद्र सरकार और केंद्रीय हज समिति को नोटिस भेजकर 11 अप्रैल तक जवाब माँगा है।
कार्यकारी चीफ जस्टिस गीता मित्तल और न्यायमूर्ति हरिशंकर की बेंच ने नई हज नीति को चुनौती देने वाली याचिका पर आज सुनवाई करते हुए अल्पसंख्यक मंत्रालय और हज कमेटी को नोटिस भेजा है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

एडवोकेट गोरव बंसल की ओर से दायर की गई याचिका में कहा गया है कि नए हज नीति कुछ प्रस्ताव संविधान के अनुच्छेद 14, 21 और 25 के तहत दी गई समान अधिकार और धार्मिक स्वतंत्रता के अधिकार का उल्लंघन है।

आपको बता दें कि अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय की कमीटी की रिपोर्ट के बाद नई हज नीति में शारीरिक और मानसिक रूप से विकलांग लोगों के हज के लिए जाने पर रोक लगा दी गई है। यह नीति 2018 से 2022 की यात्रा के लिए है।

Top Stories