Sunday , July 22 2018

फ़र्ज़ी होने के बावजूद नजीब के आईएसआईएस में शामिल होने की अफवाह सोशल मीडिया पर चल रही है

स्पष्टीकरण के बावजूद आईएसआईएस में शामिल होने वाले नजीब की अफवाह सोशल मीडिया पर प्रसारित हो रही है। जेएनयू छात्र नजीब याद है ना? उसका पता लगाया जा चुका है। उस निर्दोष अल्पसंख्यक के अपहरण के लिए भाजपा/आरएसएस और पूरे संघ परिवार को दोषी ठहराया गया था। अब पता चला है कि वो आईएसआईएस के साथ है। बिकाऊ मीडिया, आप, कम्युनिस्ट और कांग्रेसियों के लिए विरोध करने को बहुत कुछ।

दरअसल, अगस्त, 2017 के एक टेलीग्राम में अपनी माँ को लिखते हुए नजीब ने आईएसआईएस के प्रति अपनी निष्ठा जताई और कहा कि वह देश में नहीं रहना चाहता और इसके बजाय जिहाद की मजदूरी करना चाहता है। यह खबर पहली बार सितंबर 2017 में आई थी लेकिन अब हाल में फिर से फैलायी जा रही है। जेएनयू का जो छात्र नजीब अहमद 2016 में गायब हो गया था उसके संदर्भ में यह खबर नहीं थी। खबर 23 साल के नजीब के संदर्भ में थी, जो वीआईटी वेल्लोर में एमटेक का छात्र था और केरल से गायब हो गया था।

अनेक फेसबुक पेज इस पोस्ट को 4000 से ज्यादा बार साझा किया गया है। कई अन्य पेज भी हैं जो नजीब अहमद के बारे में इस झूठी सूचना को साझा कर रहे हैं। स्वर्णिम हिंद का स्वर्णिम सपना नामक एक और पेज ने 260,000 से अधिक अनुयायियों को भी संदेश के साथ साझा किया है।

एक और पेज पर नरेंद्र मोदी नमो नमो, जो 110,000 से ज्यादा अनुयायी हैं, पत्रकार रविश कुमार को यह कहते हुए निशाना बनाया गया है कि वह जेएनयू के नजीब से आईएसआईएस में शामिल होने पर क्यों चुप हैं।

26 फरवरी को अलर्ट न्यूज ने खबर दी थी कि सोशल मीडिया पर कुछ खास वर्ग इस संदेश को कैसे फैला रहे हैं जो पूरी तरह से झूठी है। फिर भी जानबूझकर रिपोर्ट प्रसारित की गई। सत्तारूढ़ दल के कई सदस्यों ने सोशल मीडिया पर इस फ़र्ज़ी खबर को फैलाया। इनमें भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव, भाजपा के सांसद स्वपन दासगुप्ता और भाजपा प्रवक्ता नलिन कोहली शामिल थे, जिन्होंने जसवंत सिंह के ट्वीट को ट्वीट किया, जो अभी भी हटाया नहीं गया है और पहले ही 3000 गुना पहले से साझा किया गया है। नजीब अहमद स्वयं का बचाव करने के लिए नहीं है और मीडिया आवाजहीन की आवाज़ माना जाता है।

TOPPOPULARRECENT