Sunday , July 22 2018

14 सौ साल पहले सोने के जिस तरीक़े को पैगंबर मोहम्मद ने नापसंद किया था, आज वह मेडिकल सलाह है

सभी इस्लामिक शिक्षा प्रक्रतिक सिद्धांतों और अच्छे उसूलों पर आधारित है। जिसे समय समय पर विज्ञान ने भी अपनाया। जैसा कि हम हर दिन के गतिविधियों के बारे में लापरवाह हैं। हम रात को भी लापरवाह होते हैं, जब सोने का समय आता है। बहुत से लोग इस को आरामदायक बनाते हैं लेकिन कुछ लोग गलत तरीके को अपनके फंस जाते हैं।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

बहुत से लोग इस सच्चाई को नहीं जानते कि पेट के बल लेटने या सोने से हमारे स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।हमारे प्यारे पैगंबर मुहम्मद (सल्लल्लाहु ‘अलैही वा सल्लम) ने हमें (मुस्लिम) 1400 साल पहले सोने के तरिके के बारे में बताया था कि इस सोने के तरीके को अल्लाह ने नापसंद किया है। यह घटना कुछ इस तरह है कि..

एक बार मोहम्मद सअ ने देखा कि एक आदमी मैदान में पेट के बल सोया हुआ है। मोहम्मद साअ उसके पास गए उनको जगाने के लिए अपने पैर से ठोकर दिया वह आदमी उठा और देखा कि सामने नबी सअ हैं, मोहम्मद सअ ने कहा कि इस सोने के तरीके को अल्लाह ने नापंसद किया है।

सदियों बाद, मेडिकल साइंस ने हमें बताया कि सोने का यह तरीका स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है।

TOPPOPULARRECENT