डॉ. जफरूल-इस्लाम खान ने बाबरी मस्जिद मुद्दे पर अपना रुख स्पष्ट किया

डॉ. जफरूल-इस्लाम खान ने बाबरी मस्जिद मुद्दे पर अपना रुख स्पष्ट किया

डा. जफरूल-इस्लाम खान ने बाबरी मस्जिद मुद्दे पर विभिन्न समाचार पत्रों और पोर्टलों में आई खबर को गुमराह करने वाली बताया है। उन्होंने साफ़ किया कि न्यूज़ 18 में मेरे साक्षात्कार के दौरान मैंने जो कुछ कहा था, उसको अत्यंत गलत तरीके से प्रस्तुत किया गया है। मैंने आरएसएस को तीसरे स्थान पर रखा था।

पहला सर्वोच्च न्यायालय और भारत के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति खेहर जिन्होंने मार्च 2017 में इस मामले में मध्यस्थता करने की पेशकश की थी। दूसरा केंद्र सरकार था और तीसरा मैंने आरएसएस का उल्लेख किया क्योंकि यह मंदिर के लिए आंदोलन करने वाले सभी हिंदू संगठनों को नियंत्रित करता है।

उन्होंने कहा कि इसमें कोर्ट, सरकार और आरएसएस सभी एक साथ आएं। श्री श्री रविशंकर की कोई नहीं सुनेगा। मैंने कभी नहीं कहा कि अदालत में चल रहे मामले को रोकना चाहिए या वापस लेना चाहिए।

न्यायालय के बाहर के निपटारे के प्रयासों को अदालत की कार्यवाही के साथ-साथ जारी रखना चाहिए और अगर एक सौहार्दपूर्ण निपटारा सामने आता है, तो अदालत को पार्टियों द्वारा उस के बारे में सूचित किया जाएगा।

Top Stories