Wednesday , July 18 2018

बोर्ड के कट्टरता के कारण यह दिन देखने पड़े: प्रोफ़ेसर सैफुद्दीन सोज

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रोफ़ेसर सैफुद्दीन सोज ने तीन तलाक को यकायक अपराध करार देने वाले बिल को लोक सभा में पास कर देने के सन्दर्भ में कहा है कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को अपनी प्रतिनिधित्व स्थिति साबित करने के लिए अपने संस्था को सही दिशा में ले जाना चाहिए।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

सैफुद्दीन सोज ने शुक्रवार को अपने एक बयान में कहा कि यह आश्चर्य की बात है कि बोर्ड ने हाल के वर्षों में अपनी लापरवाही और कट्टरता को बरक़रार रखते हुए इस बात पर ध्यान नहीं दिया कि दुनिया के अधिकतर इस्लामी देशों ने एक बार में तीन तलाक कहने के प्रक्रिया को गैर इस्लामी करार दिया है।

सोज ने कहा कि मैं उनलोगों में शामिल रहा हूँ जिन्होंने वर्षों मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को स्वीकार किया है और इज्जत दी है। हालांकि मुझे यह बात मालूम थी कि यह बोर्ड लोकतांत्रिक परंपरा और विचार विमर्श के बेहतरीन रास्ते को छोड़कर कट्टरता का रास्ता अपनाकर काम कर रहा था।

उनहोंने कहा कि मैं वर्षों से देख रहा था कि इस बोर्ड को प्रतिनिधित्व हासिल नहीं है। क्योंकि वह निहायत ही कट्टर तरीके से समय समय पर अपनी मर्जी से बे मतलब के लोगों को सदस्य के तौर पर अपने साथ सामिल कर लेता है। जिसकी वजह से आज हमें यह दिन देखने को मिल रहा है।

TOPPOPULARRECENT