बीफ खाना चाहते हैं, तो खाइए लेकिन किसी फेस्टिवल की जरूरत क्यों?- उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू

बीफ खाना चाहते हैं, तो खाइए लेकिन किसी फेस्टिवल की जरूरत क्यों?- उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू

मुंबई में आयोजित एक कार्यक्रम में उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने बीफ और किस पार्टी के आयोजन पर सवाल उठाए। साथ ही, संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को फांसी देने के विरोध में प्रोग्राम करने वालो की भी जमकर आलोचना की। ने सभी को ऐसे विवादित आयोजनों से दूर रहने की नसीहत दी। उन्होंने कहा, “आप बीफ खाना चाहते हैं, तो खाइए। लेकिन इसके फेस्टिवल का आयोजन क्यों? अगर आप किस करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको फेस्टिवल की या किसी की परमिशन की क्या जरूरत?” संबोधन के दौरान नायडू ने कहा, “अफजल गुरु को लीजिए। कुछ लोग उसका नाम जप रहे हैं। यह क्या हो रहा है। उसने हमारी संसद को धमाके में उड़ाने की कोशिश की थी।”

उपराष्ट्रपति ने कार्यक्रम में मौजूद लोगों घर और कॉलेज के माहौल को तनाव रहित बनाने की अपील की। उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ पेरेंट्स अपने बच्चे की क्षमता को समझ नहीं पाते हैं। बता दें कि वेंकैया नायडू जब केंद्रीय मंत्री थे, तब भी बीफ विवाद पर उन्होंने खुलकर राय रखी थी। उन्होंने कहा था कि वे मांसाहार को खूब पसंद करते हैं। सबको अपनी पसंद का भोजन करने का अधिकार है। उन्होंने कहा था कि मुझे कभी किसी ने कुछ भी खाने से नहीं रोका है।

Top Stories