जयराम रमेश ने कहा : केन्द्र का योजना आयोग को खत्म करना ‘तुगलकी’ कदम

जयराम रमेश ने कहा : केन्द्र का योजना आयोग को खत्म करना ‘तुगलकी’ कदम

पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने कहा है कि नोटबंदी की ही तरह योजना आयोग को बदलना एक ‘तुगलकी’ कदम था। उन्होंने कहा कि इस कदम ने उसकी जगह ‘ढिंढोरा पीटने वाले बौद्धिक रूप से साधारण लोगों’ के एक मंच को जन्म दिया है। उन्होंने ‘वाइस काउंसिल: रिफ्लेक्शंस ऑन द प्लानिंग एरा ’ विषय पर सातवां शारदा प्रसाद स्मृति व्याख्यान देते हुए उन्होंने यह बातें कहीं।

जयराम ने कहा कि आयोग ने भारत को गरीब नहीं रखा था जैसा कि उस पर अक्सर आरोप लगते थे बल्कि उसने भारत को एक साथ रखा था। नरेंद्र मोदी सरकार ने वर्ष 2014 में योजना आयोग को खत्म कर दिया था और इसे नीति आयोग के रूप में बदल दिया था।

जयराम ने कहा , ‘यह अगस्त 2014 में हुआ जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की कि योजना आयोग को खत्म किया जाएगा और उसके स्थान पर नीति आयोग स्थापित किया जाएगा। यह नए प्रधानमंत्री की इस सोच के हिसाब से हुआ कि हर चीज पर मेरी छाप होनी चाहिए फिर चाहे इतिहास कुछ भी रहा हो और विरासत कुछ भी कहे।’

Top Stories