RSS की अंग्रेजों से मिलीभगत थी, नहीं चाहती थी कि भारत आजाद हो- फारुक अब्दुल्ला

RSS की अंग्रेजों से मिलीभगत थी, नहीं चाहती थी कि भारत आजाद हो- फारुक अब्दुल्ला
Click for full image

श्रीनगर। पूर्व मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री रहे नैशनल कान्फ्रेंस प्रमुख फारुक अब्दुल्ला ने कहा कि आजादी के समय आरएसएस ने अंग्रेजों से मिलीभगत की थी और नहीं चाहती थी कि भारत आजाद हो। फारूक ने यह भी कहा कि आपातकालीन समय में आरएसएस ने इन्दिरा गांधी का समर्थन किया था।

उन्होंने कहा कि संघ धर्म के नाम पर लोगों को बांटने का काम कर रहा है और इसमें भाजपा भी पूरा सहयोग कर रही है। अब्दुल्ला ने कहा, इतिहास साक्षी है कि जब देश के दिग्गज अंग्रेजों का कहर झेल रहे थे तो उस समय संघ अंग्रेजों के साथ मिल गया था।

अब भाजपा राष्ट्रवाद के झूठे और खोखले दावे कर रही है। फारूक ने कहा कि राजेश राव ने अपनी पुस्तक में लिखा है कि संघ प्रमुख ने इन्दिरा गांधी से मिलने की इच्छा जाहिर की थी पर वह नहीं मानीं। आपातकालीन स्थिति में संघ ने इन्दिरा का साथ दिया था और युवाओं को इतिहास की सही जानकारी होनी चाहिए।

Top Stories