मेवात : रोहिंग्या शिविर में लगी आग के बाद गैस सिलेंडर फटने से 57 झोपड़ियां जलकर राख

मेवात : रोहिंग्या शिविर में लगी आग के बाद गैस सिलेंडर फटने से 57 झोपड़ियां जलकर राख
Click for full image

रोहिंग्या शिविर में शॉर्ट सर्किट के कारण गैस सिलेंडरों में फटने से लगी आग ने 57 झोपड़ियों को जला दिया जिससे 187 रोहिंग्या शरणार्थी बेघर हो गए। यह घटना इफ्तार के समय हुई। स्थानीय निवासियों ने कहा कि उन्होंने केबल्स में स्पार्क्स देखा था, जिसमें शॉर्ट सर्किट हुआ।

थोड़ी देर बाद, केबल्स, प्लास्टिक की चादरें, तिरपाल और झोपड़ियों पर चिंगारी गिरी और हवा के चलते आग लग गई और फिर खाना पकाने वाले गैस सिलेंडरों में आग लग गई जिससे विस्फोट हुआ और पूरे शिविर को मिनटों में जला दिया। मेवात में लगभग 1,300 रोहिंग्या शरणार्थी छह शिविरों में रहते हैं, जो एक साथ 360 से अधिक परिवारों को आश्रय प्रदान करते हैं।

उनका कहना था कि हमने कुछ कम तीव्रता वाले विस्फोटों को सुना और घरों से बाहर निकल आए। हर जगह धुआं दिखा। शिविर में रहने वाले अकबर ने कहा कि कुछ खाना पकाने वाले गैस सिलेंडरों में विस्फोट हुआ जिससे आग फैल गई जिसने झोपड़ियों को जला दिया। यह समझने में हमें कुछ समय लगा कि क्या हो रहा है। हमने अधिकारियों को सूचित किया। एक और निवासी हनीफ ने कहा कि आग तेजी से फैल रही थी।

स्थानीय ग्रामीण रोहिंग्या शरणार्थियों के बचाव के लिए आये। शिविर में अधिकांश सदस्यों के आईडी कार्ड भी जल गए हैं। एक शरणार्थी जफरुल्ला ने कहा, ‘जिन लोगों ने अपनी जेब में कार्ड रखे थे, वे बचे हैं।। शिविर में रहने वाले 187 निवासियों कोई नुक्सान नहीं हुआ।

मौके पर अग्निशमन और उप-मंडल मजिस्ट्रेट समेत वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी पहुंचे। मेवात के डिप्टी कमिश्नर अशोक शर्मा ने कहा कि प्रशासन उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करेगा।

समुदाय के नेताओं ने उनके लिए तंबू और भोजन की व्यवस्था करने के लिए आस-पास के गांवों के निवासियों से अपील की। मौलाना मोहम्मद खालिद ने कहा कि समदाय यह सुनिश्चित करेगा कि जल्द से जल्द इन लोगों की देखभाल और पुनर्वास किया जाए।

Top Stories