सात लाख शरणार्थियों में से पहले रोहिंग्या परिवार की म्यांमार में हुई वापसी

सात लाख शरणार्थियों में से पहले रोहिंग्या परिवार की म्यांमार में हुई वापसी
Click for full image

म्यांमार सरकार ने कहा कि उसने बांग्लादेश पलायन कर गए लगभग 7 लाख शरणार्थियों में से पहले परिवार की देश वापसी कराई है। म्यांमार सरकार ने संयुक्त राष्ट्र की इस चेतावनी के बावजूद पहले रोहिंग्या परिवार की वापसी कराई है कि सुरक्षित वापसी अभी संभव नहीं है।

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि म्यांमार सेना का अभियान नस्ली सफाए के बराबर है, लेकिन म्यांमार ने यह कहकर आरोप से इनकार किया है कि उसके सैनिकों ने रोहिंग्या आतंकवादियों को निशाना बनाया। बांग्लादेश और म्यांमार जनवरी में वापसी की प्रक्रिया शुरू करने वाले थे, लेकिन योजना में बार-बार विलंब होता रहा है। दोनों पक्ष विलंब के पीछे तैयारियों की कमी का हवाला देते रहे हैं।

म्यांमार सरकार के एक बयान के अनुसार रोहिंग्या शरणार्थियों का पहला परिवार स्वदेश वापस लौट आया है। सरकार की सूचना समिति के आधिकारिक फेसबुक पेज पर पोस्ट किए गए बयान में कहा गया, ‘परिवार के पांच सदस्य आज सुबह रखाइन प्रांत के ताउंगपियोलेत्वेई वापसी शिविर लौट आए।’ बयान के साथ पोस्ट की गई तस्वीरों में एक पुरुष, दो महिलाएं, एक लड़की और एक लड़का परिचय पत्र हासिल करते तथा स्वास्थ्य जांच कराते दिखाई देते हैं।

Top Stories