Thursday , July 19 2018

जयपुर में मंदिर के पीछे 2 कमरों में चल रहा था नकली नोट छापने का कारखाना

राजस्थान: जयपुर में जाली नोटों से जुड़ा एक बेहद चौकाने वाला मामला सामने आया है। ख़बर है कि यहाँ एक हनुमान मंदिर के पीछे नकली नोट छापने का कारखाना पकड़ा गया है। इस छापेमारी में पुलिस ने मौके से डेढ़ लाख के नकली नोट समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।

दरअसल पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी कि मंदिर के पीछे कमरे में दो हजार और पांच सौ के नए नोट छापे जा रहे हैं।

इसी सूचना पर जब पुलिस ने यहाँ रेड की तो पाया कि कमरे में नकली नोट की छपाई का काम चल रहा है। पुलिस ने मौके से नकली नोट छापने वाले धनराज मीणा, राम कल्याण और सलीम को गिरफ्तार कर लिया।

इस मामले में पुलिस ने बताया कि आरोपियों ने अभी तक पांच लाख के नकली नोट बाजार में खपा दिए हैं। आरोपियों ने बस्सी थाना इलाके में जयपुर-आगरा हाईवे पर 52 फीट हनुमान मंदिर के पीछे किराये पर एक कमरा लिया हुआ था। कमरा मंदिर से लगे होने की वजह से किसी को इन पर शक भी नहीं था। अंदर नकली नोट छापने का कारखाना चल रहा था।

पुलिस के मुताबिक़ पूछताछ में पता चला है कि ये नकली नोट यहां से दूसरे जिलों में भेज दिए जाते थे। इस दौरान पुलिस ने यहां से कलर प्रिंटर और स्केनर भी जब्त किए गए हैं जिनके जरीए 2000 और 500 के नकली नोट छापे जा रहे थे।

डीसीपी कुंवर राष्ट्रदीप ने बताया कि इस नोट छापने के दो मास्टर माईंड हैं। एक पास के हीं तुंगा गांव का छोटे लाल माली और दूसरा मुकेश उर्फ राम सिंह बावरिया जो कि अलवर जिले के प्रतापगढ़ का रहने वाला है।

पुलिस के अनुसार दो हजार और पांच सौ के कुछ नए नोट प्रिंटिग मिस्टेक वाले निकल आते हैं जिसका फायदा उठाकर ये शातिर ग्रामीण इलाकों में नकली नोट खपा रहे थे।

 

TOPPOPULARRECENT