वैज्ञानिकों ने दुनिया के सबसे बड़े डायनासोर के पैरों के निशान खोज निकाले जो 50 फुट लंबे थे

वैज्ञानिकों ने दुनिया के सबसे बड़े डायनासोर के पैरों के निशान खोज निकाले जो 50 फुट लंबे थे
Click for full image

170 मिलियन वर्षों में पहली बार डायनासोर के 50 फुट लंबे फूटप्रिंट की खोज किए हैं जो दुनिया के सबसे बड़े डायनासोर के फूटप्रिंट के निशान हैं। वैज्ञानिकों ने दुनिया के सबसे बड़े डायनासोर के फूटप्रिंट ‘इसले ऑफ स्काई’ पर करीब 50 फुटप्रिंट्स की खोज की है। मांस-खाने वाले थेरोपॉड के तेज-पंजे वाले तीन-पैरों के निशान 170 मिलियन वर्ष पहले एक गंदे लैगून में बनाए गए थे, लेकिन हाल ही में इसले के शील्ड चट्टानों में देखा गया है। इस फूटप्रिंट को स्कॉटलैंड में पाए जाने वाले सबसे पुराने डायनासोर का माना जाता है। वे मध्य जुरासिक काल में पाये जाते थे, जिसके बारे में बहुत कम जानकारी है।

लेकिन डायनासोर के इस फूटप्रिंट से पता चलता है कि ये पहली बार 230 मिलियन वर्ष पहले दिखाई दिये थे, वे सभ्यता के तौर पर दिखाई देते थे जो शांति से एक साथ रहते थे। यह शील्ड चट्टानों पर डायनासोर के पैरों के निशान की दूसरी खोज है, जो मौसम और ज्वार की स्थिति के कारण अध्ययन करना मुश्किल है।

एडिनबर्ग विश्वविद्यालय से डॉ स्टीव ब्रुसेटेट, जिन्होंने पैरों के निशान में एक अध्ययन का नेतृत्व किया, उन्होने कहा ‘जितना हम इसले ऑफ स्काई पर देखते हैं, उतना डायनासोर के पैरों के निशान हम पाते हैं। ‘यह नई साइट दो अलग-अलग प्रकार के डायनासोर रिकॉर्ड करती है – ब्रोंटोसॉरस के लंबे घुटने वाले चचेरे भाई टीरेक्स जिसके तेज धरधर दांत थे। और जब स्कॉटलैंड बहुत गर्म था तब डायनासोर वैश्विक प्रभुत्व के लिए अपनी यात्रा शुरू कर रहे थे।

डायनासोर एक पहाड़ी के बड़े द्वीप पर रहते थे, जहां सुपर महाद्वीप अलग-अलग तोड़ने लगे थे, अटलांटिक पानी का एक संकीर्ण मार्ग था और ब्रिटेन भूमध्य रेखा के करीब था, फ्लोरिडा की तरह एक जलवायु के बराबर। उस समय पक्षियां पहली बार आसमान पर उड़ पा रहे थे, टीरेक्स पहले दिखाई दिया था और डायनासोर आकार में विशाल बनने लगे थे। स्काई पर ज्यादातर प्रिंट ट्रायनोसॉरस रेक्स के ‘पुराने चचेरे भाई’ द्वारा तैयार किए गए थे, जिन्हें द्रोप्रोड कहा जाता था, जो दो पैरों पर चलता था और 6.5 फीट लंबा से अधिक था। शोधकर्ताओं ने स्काई ट्राटट्रिनिश प्रायद्वीप पर एक नाटकीय हेडलैंड के एक ज्वारीय इलाके में फूटप्रिंटों को मापा, फोटो और विश्लेषण किया। स्पष्ट प्रिंटों का विश्लेषण के बाद ट्रैक की रूपरेखा के समग्र आकार, पैर की उंगलियों के आकार और उन्मुखीकरण और पंजे की उपस्थिति सहित वैज्ञानिकों को यह निर्धारित करने में सक्षम थे कि वे साओरोपोद और थेरोपोड्स के थे।

Top Stories