Wednesday , April 25 2018

पीएनबी, एसबीआई, एचडीएफसी, आईटीसी, टीसीएस को एक हफ्ते में 2660 करोड़ रुपये का नुकसान

मुंबई। यह कोई छुपी हुई बात नहीं है कि खराब ऋण के नतीजे गैर निष्पादित संपत्ति (एनपीए) बनने का परिणाम है, और इसने बैंकों पर दबाव डाला है। भारतीय बाजार में नीरव मोदी घोटाले के साथ-साथ 2 मिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था में गिरावट आई है। सरकारी बैंकों के बाजार पूंजीकरण में 56,251 करोड़ रुपये की कमी आई है। इसमें सबसे ज्यादा नुकसान भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) को हुआ है।

हालांकि, बैंकिंग के अलावा अन्य शेयरों में भी पिछले हफ्ते नुकसान के रुझान दिखे हैं। पिछले पांच सत्रों में बीएसई सेंसेक्स में 95.21 अंक की गिरावट आई है। एसबीआई ने 11,694.44 से 2.26 लाख करोड़ रुपये का नुकसान उठाया और टीसीएस, आईटीसी, ओएनजीसी और एचडीएफसी जैसे अन्य उद्यमों में भारी कारोबार में गिरावट आई है।

आईटीसी कंपनी द्वारा 6535 करोड़ से 3.21 लाख करोड़ रुपये की बचत की जाती है। ओएनजीसी ने 577.50 करोड़ रुपये 2.43 लाख करोड़ रुपये के स्तर पर समाप्त कर दिए, जबकि एचडीएफसी बैंक ने 212.98 करोड़ रुपये से 4.87 लाख करोड़ रुपये के एम-कैप की गिरावट देखी। निफ्टी पीएसयू डेटा में एक साल में 8.74 प्रतिशत गिरावट आई है। यूनियन बैंक, इलाहाबाद बैंक और ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स को भी नुकसान हुआ है। पिछले एक साल में आईडीबीआई लाभ हासिल करने वाला एकमात्र बैंक रहा है।

TOPPOPULARRECENT