Thursday , December 14 2017

‘मुस्लिम प्रवक्ताओं के ज़्यादा बोलने से बीजेपी को होगा फायदा’

यह हमारे समय की महान विडंबनाओं में से एक है कि मुसलमान भाजपा को छोड़कर सभी राजनीतिक दलों के लिए एक समस्या है। ममता बनर्जी भी मुसलमानों के बिना गेम प्लान नहीं कर सकती| लेकिन वहीँ पर कोई हिंदुत्व खेल प्लान का हिस्सा नहीं होगा। इस वक़्त मुस्लिम ही है जिसके चारों ओर राजनीति की सुई घूमती है। कांग्रेस के लिए, मुसलमान निचोड़ा हुआ नींबू हैं। यह उनके लिए ऐसा कहने के लिए ठीक नहीं होगा लेकिन यही वास्तविकता है| मामूली मात्रा में इस्तेमाल होने के बाद मुस्लिम को अब त्याग दिया जा सकता है। पार्टी उन्हें त्याग सकती है ये वजह वह अपने स्वयं के कारणों से किये जायेंगे| हम देख सकते हैं की राजनीतिक पार्टियाँ केसे मुस्लिम कार्ड खेलती हैं|  ऐसा माना जाता है कि कांग्रेस अल्पसंख्यकों के साथ है लेकिन देखो, वे लव जिहाद पर चुप हैं, और  कैसे हमारी महिलाओं का शोषण किया जा रहा है।

सांप्रदायिकता से पिछड़ी राजनीति को नेविगेट करने के लिए, “मुस्लिम सवाल” को अलग करना महत्वपूर्ण है। मुझे लगता है कि “अलग सेटिंग” का अर्थ है इस मुद्दे की अनदेखी करना, उनको हर एक चीज़ से लगा कर देना यहाँ तक की इसके बारे में बात ही नहीं करना। जब आप एक समुदाय को सेट करते हैं, जिसकी अगुवाई सबसे आक्रामक चैनलों पर करते हैं| अपने आप को एक क्रूर के तौर पर रखते हो| इससे वह कल्पना कर सकते हैं कि उन्हें खुशी हो रही है कि जो वह चाह रहे हैं वही आप कर रहे हो| इन सभी जगह पर मिलने वाली रैंक को सिर्फ भाजपा की नीति गहरी होती है|इसलिए मुसलमानों को इस तरह की गहरी रणनीति में नहीं फसना चाहिए और उन्हें ये सब बंद कर देना चाहिए|

भाजपा की अगुवाई वाली सरकार ने कश्मीर से वार्ता करने के लिए तैयार हुआ| एक वार्ताकार का स्वागत किया है, क्योंकि कश्मीर में किसी भी बात की जाम पर अग्रिम है। लेकिन कम से कम सामान्य ज्ञान वाला कोई भी व्यक्ति जानता है कि इस मुद्दे के किसी भी प्रस्ताव के लिए वार्ताकार को नियुक्त नहीं किया गया है। इससे पाकिस्तान तक पहुंचने की आवश्यकता होगी| ऐसा परिदृश्य 2019 के आम चुनाव से पहले असंभव है| भारत-पाकिस्तान वार्ता सांप्रदायिक तापमान को कम करेगा इससे भगवा हवा को पीली हो जाएगी राष्ट्रीय गान, वंदे मातरम्, गाय के लिए फांसी, लव जिहाद, राम मंदिर एक चरमपंथी संघर्ष। यदि सावधानी से तैयार किया गया है, तो सावधानी से तैयार की गई पृष्ठभूमि में भागना शुरू हो जाएगा। ये सारे मुद्दे मुसलमानों को भड़काने के लिए तैयार किया जाते हैं| लेकिन इन सब से बचने का प्रयास करें| अपनी प्रतिक्रिया देने से बचें| इसी वजह से आपको एक प्रवक्ता के रूप में चैनल पर बुलाया जाता है|

यह एक टॉस-अप है कि क्या इन एकल ऑपरेटर मुस्लिम कारणों या सामूहिक मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को नुकसान पहुंचाते हैं या नहीं। दोनों ही स्वयं नियुक्त हैं| केरल में सांप्रदायिक राजनीति संभव हो गई क्योंकि धाराएं ’80 के दशकों में एक साथ आई थीं। केरल के तमाम क्षितिज के साथ चरित्र से बाहर थे। नूवेऊ रिच के साथ ही इस्लाम की आज़ादी हुई, हिजाब और तर्क के अन्य गुणों के साथ पूरा हुआ। इस घटना ने ज़िया-उल-हक के पाकिस्तान में निजाम-ए-मुस्तफा के साथ बातचीत की। पड़ोसी तमिलनाडु में 1981 मीनाक्षिपुराम रूपांतरण के लिए दिया गया बड़ा नाटक सांप्रदायिक केक पर अंतिम चेरी था। इसलिए आरएसएस ने इसमें फायदा हासिल किया है हालांकि केवल केरल विधानसभा में अपनी बतख तोड़ने के लिए पर्याप्त है। लेकिन यह अपनी अघोषित बी टीम, कांग्रेस के माध्यम से हस्तक्षेप कर रहा है| यह आरएसएस-कांग्रेस के साथ परस्पर-भूमिका में है ।

सीपीआई एम के महासचिव सीताराम येचुरी ने 201 9 के चुनावों के लिए प्रस्तावित लाइन बनाते हैं। वह नरेंद्र मोदी को आगे के रूप में देखते हैं, जो कि सभी लोकतांत्रिक ताकतों, मुख्यतः कांग्रेस, को कुचलने के लिए गठबंधन करना चाहिए। येचुरी की मूल चिंता है पश्चिम बंगाल में हार को ठीक करना जो की उनकी प्रतिद्वंदी माता बनर्जी ने किया है| इस कारण से, सीपीआई-एम 2016 के विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस के साथ समन्वय कर रहा था और जिसके बाद वह संकट में आ गया। ममता ने राज्य के 30 प्रतिशत मुस्लिमों को उनके समर्थन के केंद्रीय स्तंभ के रूप में जुटाया है। ममता मुस्लिम समर्थन के साथ, मोदी के खिलाफ धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक मंच पर खड़े होने के इच्छुक हैं| इसलिए अब येचुरी को ममता से सबसे पहले लड़ना है| भ्रम का फायदा उठाने के लिए, भाजपा ने 8 नवंबर को जारी किये घोषणा पत्र जारी किया था|

जिसमें  कांग्रेस, जद-यू, राजद, द्रमुक, सपा, बसपा, तृणमूल आदि ने अपने स्वयं के “शर्म के दिन” के साथ भाजपा को बुलाया है। इस आकाशगंगा से वामपंथी गायब क्यों है? चूंकि सीपीआई-एम ममता जैसी एक ही मंच पर खड़ा होने के लिए तैयार नहीं है। इसके बजाय, वामपंथियों का अपना अलग प्रदर्शन होगा| विरोध के दिन मोदी के खिलाफ यह विरोध विपक्ष को कमज़ोर करता है|

 

TOPPOPULARRECENT