Sunday , December 17 2017

सरकार ने प्रमुख मुस्लिम हस्तियों के फोन टेपिंग मामले को गंभीरता से लिया

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने संप्रग शासनकाल में प्रमुख मुस्लिम हस्तियों के बीच बातचीत को कथित तौर पर सुनने के मामले को गंभीरता से लिया है। इन लोगों के बीच विभिन्न आतंकवादी मामलों में अपने समुदाय के आरोपियों को कानूनी सहायता देने के बारे में बातचीत हुई थी।

 

 

सुनी गई बातचीत को हाल में एक टीवी चैनल ने प्रसारित किया है। समझा जाता है कि बातचीत सुनने के उत्तरदायी लोगों के खिलाफ संभावित कानूनी कार्रवाई के लिए कानूनी अधिकारियों के विचार लिए जा रहे हैं। सरकार का मानना है कि यह कानून का उल्लंघन है।

 
सरकार के एक वरिष्ठ विधि अधिकारी ने कहा कि प्रथमदृष्ट्या प्रतीत होता है कि बातचीत सुनने के सिलसिले में उपयुक्त प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया। समझा जाता है कि बातचीत कुछ प्रमुख मुस्लिम हस्तियों के बीच थी जिसमें एक मशहूर अभिनेत्री भी शामिल थीं।

 

 

अतिरिक्त सॉलीसीटर जनरल ने बताया कि रिकॉर्डिंग विशेष परिस्थितियों में केंद्रीय गृह मंत्रालय की अनुमति से ही की जा सकती है। उन्होंने कहा कि अगर आवश्यक प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया तो सरकार पूछ सकती है कि किन परिस्थितियों में प्रमुख मुस्लिम हस्तियों की जासूसी की गई और वह कानूनी कार्रवाई शुरू कर सकती है।

 

 

अधिकारी इन खबरों पर अपना बयान दे रहे थे कि पूर्ववर्ती संप्रग सरकार कुछ प्रमुख मुस्लिम हस्तियों की जासूसी कर रही थी जिसमें एक अभिनेत्री और एक प्रमुख लेखक शामिल हैं।

TOPPOPULARRECENT