Thursday , December 14 2017

GST बदलाव में टूरिज्म सेक्टर को नहीं मिली राहत, 20 फीसदी नौकरियों को खतरा

नई दिल्ली। शुक्रवार को जी.एस.टी. काऊंसिल के फैसले से टूरिज्म इंडस्ट्री निराश है। उसके अनुसार काऊंसिल ने ऐसे कोई बड़े फैसले नहीं किए हैं जिससे सुस्ती से जूझ रही इंडस्ट्री को बूस्ट मिले।

इंडस्ट्री के अुनसार टूरिज्म सैक्टर में 20 प्रतिशत से ज्यादा नौकरियां खतरे में हैं। इस फैसले से इन पर सीधा नैगेटिव इम्पैक्ट होगा।

इंडियन एसोसिएशन ऑफ टूर ऑप्रेटर (आई.ए.टी.ओ.) के प्रैसीडैंट प्रणब सरकार ने बताया कि सरकार ने टूरिज्म सैक्टर को कोई बड़ी राहत नहीं दी है। सरकार ने 7500 रुपए से ज्यादा रैंट वाले होटलों पर आई.टी.सी. सहित 18 प्रतिशत टैक्स कर दिया है जो पहले 28 प्रतिशत था।

सरकार अब पुराने वाले लैवल पर टैक्स रेट ले आई है। इससे बहुत ज्यादा फर्क नहीं पडऩे वाला है क्योंकि क्रिसमस और नए साल के लिए ज्यादा टैक्स रेट के कारण इंडिया में फाइव स्टार होटल की बुकिंग ज्यादा नहीं हुई है।

इससे टूरिज्म सैक्टर को बहुत ज्यादा फायदा होने वाला नहीं है, क्योंकि होटल के टैक्स लगाने के बाद वह पैकेज पर अलग 5 प्रतिशत टैक्स लगाते हैं।

TOPPOPULARRECENT