Wednesday , December 13 2017

गुजरात: जाति की राजनीति और हिंदुत्व-आकड़े से लड़ने के लिए तय की हिंदू युवा वाहिनी का लक्ष्य

गुजरात में जाति की राजनीति दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। क्योंकि पाटीदार, ओबीसी, आदिवासियों और दलित समुदाय ने पहले ही विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा को पर्याप्त संकेत दे चुके हैं। हालांकि इस चुनौती का मुकाबला करने के लिए भाजपा ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर बचाव अभियान चलाया है।

हालांकि नरेंद्र मोदी, भाजपा प्रमुख अमित शाह के बाद मुख्यमंत्री योगी पार्टी में तीसरे सबसे लोकप्रिय व्यक्ति हैं। योगी आदित्य नाथ को भाजपा एक मजबूत हिन्दू वोट को एक जुट करने की ताकत रखने वाले चेहरे के रूप में पहले ही उत्तर प्रदेश में दाव खेल चूका है। उसी के तर्ज़ पर राज्य में हिंदू वोट को मजबूत करने के लिए भाजपा ने ये कदम उठाया। हालांकि पिछले कुछ सालों में जाति के संघर्ष और आंदोलनों में वृद्धि देखी गई है। सूत्रों की माने तो भाजपा को हार्दिक पटेल, OBC नेता अलपेश ठाकुर और दलित कार्यकर्ता जिग्नेश मेवानी जैसे जाति आधारित अगुवों के उदय के बाद गुजरात में चुनावों से पहले एक मजबूत हिंदुत्व का आंकड़ा चाहिए।

केरल के बाद, भाजपा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और हिंदुत्व के पोस्टर योगी आदित्यनाथ को गुजरात में चुनावों से पहले एक ‘गौरव यात्रा’ में पेश की।कौशिक भाई पटेल ने कहा की मुख्यमंत्री योगी लगातार दो दिनों तक यात्रा करेंगे। दक्षिण गुजरात में 13 अक्टूबर को और उत्तर गुजरात में अगले दिन कार्यक्रम का समन्वय किया गया है।

अगर पहले की बात करें तो 2002 के बाद पहली बार यह है कि गुजरात में एक ‘गौरव यात्रा’ आयोजित की गई है। भाजपा को उम्मीद है कि यूपी में चार बदलाव यात्रा की सफलता को दोहराने के बाद राज्य में इस साल के विधानसभा चुनावों के लिए योगी की पहली यात्रा है।

गौरव यात्रा का पहला चरण भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने 1 अक्टूबर को सरदार वल्लभभाई पटेल के जन्मस्थान करसमद में झंडी दिखा दिया था। उपराष्ट्रपति नितिन पटेल की अगुवाई वाली यह यात्रा उत्तर गुजरात केंद्र में 1336 किलोमीटर और 76 विधानसभा क्षेत्रों को कवर करेगी। द्वितीय चरण, गुजरात भाजपा अध्यक्ष जीतू वाघानी की अगुवाई में, 2 अक्टूबर को पोरबंदर से शुरू हुई, महात्मा गांधी के जन्मस्थान, और दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र में 73 विधानसभा सीटों में 2,395 कि.मी. को कवर किया जाएगा। मुख्यमंत्री विजय रुपानी वैकल्पिक यात्रा के दौरान यात्रा मार्गों में शामिल होंगे।

हालांकि आरएसएस के एक अधिकारी ने हालांकि, हिंदुत्व कट्टरपंथियों को राष्ट्रीय नेता के रूप में पेश करने और जनता के बीच अपनी स्वीकार्यता को बढ़ाने के लिए संघ परिवार की बड़ी रणनीति के हिस्से के रूप में केरल और गुजरात में योगी को बढ़ावा देने के लिए बीजेपी का कदम देखा जा रहा है। दिलचस्प है, योगी की दो दिवसीय यात्रा समाप्त होगी गुजरात गौरव यात्रा का एक दिन पहले 15 अक्टूबर को समाप्त होने वाला है।

हालांकि देख जाए तो योगी के मुख्यमंत्री बनने के बाद से अब तक वो लगातार चर्चा में ही रहे हैं। उनके द्वारा शुरू किया गया एंटी रोमियो भी खूब चर्चा में रहा। साथ कुछ पहले युवा वाहिनी वालों में मेरठ में एक दम्पति को घर से निकाल कर सार्वजनिक कर मारा था जिसके बाद सोशल मीडिया और बाकी मीडिया में भी चर्चा रही थी। हालांकि एंटी रोमियो को लेकर योगी सरकार कर खूब हु हल्लाह भी हुई थी। अब देखना है की योगी और भाजपा मिल कर गुजरात में अपने वोट के आकड़ें तो कैसे सही कर रहे हैं।

(श्री अब्दुल हफीज लाखानी अहमदाबाद स्थित एक वरिष्ठ पत्रकार हैं, गुजरात के सियासत के संपादक भी हैं)

TOPPOPULARRECENT