Monday , December 11 2017

गुजरात में बीजेपी के खिलाफ विरोधी लहर, पाटीदारों के मुद्दे पर सरकार बातचीत को तैयार

अहमदाबाद : पाटीदार इस बार गुजरात चुनाव में बीजेपी के लिए हार का सबब ना बन जाए इसीलिए सरकार उनसे बातचीत कर मामले को खत्म करने की तैयारी में है. 20 साल से सत्ता में जमी बीजेपी के खिलाफ विरोधी लहर बन रही है. पाटीदारों के मुद्दे पर भी अब बीजेपी बैकफुट पर आ गई है और उन्हें मनाने के लिए बातचीत को तैयार है. बताया जा रहा है कि बीजेपी पाटीदार समाज के वरिष्ठ लोगों से मिल सरकार और पाटीदारों के बीच बनी दूरी को मिटाने का प्रयास करेगी. सूत्रों के मुताबिक, सरकार 26 सितम्बर को सभी पाटीदार नेताओं को बातचीत के लिए बुला रही है. सरकार 10 से ज्यादा पाटीदारों की अलग-अलग संस्थाओ को बुलाकर उनके साथ बातचीत करेगी.

गुजरात विधानसभा चुनाव शुरू होने में महज अब दो महीने बचे हैं, पर सत्ताधारी बीजेपी की नींद गुजरात में चल रहे एक सोशल मीडिया कैंपेन ने हराम कर रखी है. कैंपेन का नाम है ‘विकास गांडो थायो छे’, जिसका मतलब हिन्दी में है ‘विकास पागल हो गया है’.

आरक्षण के लिए पाटीदारों के आंदोलन और दलितों पर अत्याचार के मुद्दे भले ठंडे पड़ गए हों, लेकिन कई बार एक चिंगारी आशियाना को जलाने के लिए काफी होती है, इसलिए बीजेपी के लिए जरूरी है कि विकास को समय रहते पागलपन से बाहर निकालकर पटरी पर ले आए.

सरकार पाटीदारों से बातचीत के लिए खुद पाटीदार नेताओं और संस्थाओं को आमंत्रित करेगी. इतना ही नहीं सरकार सरदार पटेल ग्रुप और हार्दिक पटेल के नेतृत्व में आरक्षण की लड़ाई लड़ रही पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति को भी बातचीत के लिए बुलाएगी.

चुनाव सिर पर है ऐसे में यदि पाटीदारों से बातचीत सकारात्मक रहती है, तो भाजपा विरोधी लहर को पाटीदारों के जरिए बदला जा सकता है.

TOPPOPULARRECENT