Monday , December 11 2017

जवाहर लाल नेहरू की शादी का उर्दू दावतनामा

यूँ तो फारसी और उर्दू प्राचीन भारत में शिक्षित वर्ग की शान और उनकी ज्ञान और कौशल की रहनुमाई करती थी, लेकिन बीसवीं सदी की शुरूआत से या इसके कुछ पहले से उर्दू को धीरे धीरे भुला दिया जाने लगा। उर्दू को सबसे ज्यादा नुकसान इस बात से हुआ कि उसका रिश्ता अल्पसंख्यक वर्ग से जोड़ दिया गया।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

लेकिन तथ्य तो यह है कि उर्दू हमेशा से ही हिंदुस्तान की ज़बान रही है, न कि मुसलमान की ज़बान। उनका सबसे बेहतरीन नमूना और जीता जगता सबूत जवाहरलाल नेहरू की शादी का वह कार्ड और दावतनामा है जो उर्दू में प्रकाशित हुआ था। गौरतलब है कि इस कार्ड में तारीख, सन और वक़्त भी उर्दू में लिखा गया है।

जवाहरलाल नेहरू और कमला कोली की शादी से संबंधित तीन दावतनामे, जो एक दस्तावेज़ की हैसियत रखते हैं। यह आपके सामने है और इसमें तहरीर किया गया उर्दू पढ़कर उर्दू वालों को अंदाज़ा होगा कि आज मुस्लिम समाज में छपे उर्दू के शादी कार्ड की ज़बान में उतनी मिठास नहीं होगी, जितनी कि जवाहरलाल नेहरु की शादी कार्ड में मिलती है। पहला दावतनामा जो पंडित जवाहरलाल नेहरु के पिता पंडित मोतीलाल नेहरु की ओर से छपा था वह यह है:

 

 

TOPPOPULARRECENT