Thursday , September 20 2018

कयामत तक साथ रहने के लिए पति-पत्नी गले लगकर हुए थे दफ्न, 3 हजार साल बाद उसी हालत में मिली कब्र

यूक्रेन के एक कब्र में 3,000 साल पहले एक प्राचीन पुरुष और महिला प्यार भरा गले लगकर अपने आप को दफ्न कर लिए थे। पुरातत्वविदों का मानना ​​है कि महिला अपने पति के साथ अगली दुनिया में जाने के लिए स्वेच्छा से दफ्न हो गई थी। ऑटोप्सी विशेषज्ञों का कहना है कि अगर वह पहले से ही मर चुकी थी तो महिला के शरीर को ऐसी प्रेमपूर्ण स्थिति में रखना संभव नहीं होगा।

विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसा लगता है कि महिला मरने का फैसला करती है और अपने पति के साथ दफन होना चाहती थी। इस असाधारण कब्र में इस युगल को कांस्य युग के अनन्त प्रेम से जोड़कर देखा जा रहा है। प्रागैतिहासिक वैसोत्स्काया – या Wysocko – संस्कृति से जोड़ी पश्चिमी यूक्रेन में टेर्नोपिल शहर के दक्षिण में पेट्रीकिव गांव के पास पाए गए थे। प्रोफेसर माइकोला बांद्राविस्की – जिन्होंने ‘प्रेमपूर्ण जोड़े दफन’ का अध्ययन किया। उन्होने कहा ‘यह एक अनोखा दफन है। ‘दोनों चेहर एक-दूसरे को देख रहे थे, उनके माथे एक दूसरे को छू रहे थे।

उसकी दाहिनी भुजा के साथ वह आदमी को कसकर गले लगा रही थी, उसकी कलाई उसके दाहिने कंधे पर लगी थी। ‘महिला के पैर घुटनों पर झुक गए थे। ‘दोनों कांस्य सजावट पहने हुए थे, और सिर के पास कुछ बर्तनों के सामान एक कटोरा, एक जार रखे गए थे।’ यूक्रेन की पुरातत्व संस्थान की ट्रांसकार्पैथियन शाखा के निदेशक डॉ बैंड्रिविस्की ने कहा कि यह प्राचीन संस्कृति अपने दफन के ‘कोमलता’ के लिए जाना जाता था। लेकिन यह उदाहरण बहुत असाधारण है।

अन्य मामलों में, इस कब्र से पता चला है कि ‘एक महिला पर हाथ रखने वाले व्यक्ति, महिला के माथे को छूने वाले आदमी के होंठ, या दोनों मृत लोगों के हाथ एक-दूसरे को गले लगाते हैं’। डॉ बैंडरोव्स्की – जिन्होंने इस तरह के दफनों का विश्लेषण किया है ने कहा ‘हमारे दृष्टिकोण से, इस महिला ने स्वेच्छा से ऐसा किया। ‘शायद, महिला किसी अन्य व्यक्ति के साथ नहीं रहना चाहती थी। ‘तो वह अपने पति के साथ गुजरना पसंद करती थी चूंकि शायद उसका पति मर चुका था।

‘हमें लगता है कि ऐसा निर्णय केवल अपनी इच्छा से ही तय किया गया था, और उसके प्रियजन के साथ रहने का उसका प्रयास नहीं था।’ उसने कहा ‘उदाहरण के लिए, वह अपने पति को आसानी से और दर्द रहित बनाने में जहर का एक टुकड़ा पी सकती है।’

उन्होंने कहा कि वैसोत्स्काया संस्कृति में विवाह अच्छी तरह से विकसित हुआ था, पतियों और पत्नियों ने स्पष्ट रूप से जिम्मेदारियों को परिभाषित किया था। उनकी मान्यताओं का एक सिद्धांत यह विचार था कि महिला अपने आदमी के साथ मरना पसंद करती है। ‘कांस्य युग में लोग मानव आत्मा के अनन्त जीवन में विश्वास करते थे।’

प्रसिद्ध यूक्रेनी पुरातत्त्ववेत्ता ने कहा ‘यह दिलचस्प है कि यूरोप के अन्य हिस्सों में मृत पुरुषों और महिलाओं को एक दूसरे के बगल में रखा गया था। ‘लेकिन वैसोत्स्काया संस्कृति में दोहरी कब्रों में जोड़ों को एक दूसरे के प्रति कोमलता और सबसे बड़ी सहानुभूति दिखाने के तरीके में व्यवस्थित किया गया था।’

TOPPOPULARRECENT