क्या मोबाइल फ़ोन से फैल रही है बिमारी?

क्या मोबाइल फ़ोन से फैल रही है बिमारी?

मोबाइल के कारण भारी संख्‍या में लोग बीमारी की चपेट में आ रहे हैं, कहीं आप भी तो इसके शिकार नहीं हो गए हैं। देश में मोबाइल यूजर्स की संख्या 104 करोड़ तक जा पहुंची है। इंटरनेट के विस्तार और सोशल साइट के तिलिस्म ने लोगों को मोबाइल एडिक्ट बना दिया है।

यह ऐसा नशा है जो इसमें जकड़े व्यक्ति को मदहोश नहीं करता लेकिन उसकी मनोदशा बिगाड़ देता है। हर वक्त सिर झुकाकर मोबाइल स्क्रीन से चिपके रहने वाले लोगों को मोबाइल एडिक्ट की श्रेणी में रखा जा रहा है।

इसके शिकार युवा और बुजुर्ग ही नहीं बल्कि 2 से 14 साल की आयु वर्ग के बच्चे व किशोर भी हैैं। अब ऐसे लोगों के इलाज के लिए गुरुनगरी अमृतसर में मोबाइल डी-एडिक्शन ट्रीटमेंट सेंटर खोला गया है।

जागरण डॉट कॉम के अनुसार, सरकुलर रोड पर इस सेंटर का संचालन कर रहे न्यूरोसाइकेट्रिक डॉ. जेपीएस भाटिया ने दावा किया कि यह देश का पहला मोबाइल डी-एडिक्शन ट्रीटमेंट सेंटर है। इससे पहले बेंगलूरु में इंटरनेट एडिक्शन सेंटर खुले हैैं लेकिन देश के किसी भी राज्य में कभी मोबाइल डी-एडिक्शन सेंटर नहीं खुला।

यहां दो से 50 साल तक के मोबाइल एडिक्ट लोगों का उपचार किया जा रहा है। उनके पास 25 केस आ चुके हैं। इनमें छह युवा, तीन बुजुर्ग और बाकी सब बच्चे हैैं। इन सभी की साइकोलॉजिकल काउंसिलिंग की जा रही है।

Top Stories