ओवैसी की ललकार: 4 फीसदी राजपूत ‘पद्मावत’ पर लड़ रहे हैं तो क्या 14 फीसदी मुस्लिम शरीयत के लिए नहीं लड़ सकते?

ओवैसी की ललकार: 4 फीसदी राजपूत ‘पद्मावत’ पर लड़ रहे हैं तो क्या 14 फीसदी मुस्लिम शरीयत के लिए नहीं लड़ सकते?
Click for full image

ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुसलिमीन के अध्यक्ष और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने मुस्लिम समुदाय को ललकारते हुए अपनी संस्कृति को बचाने के लिए राजपूतों से सीख लेने की नसीहत दी है। ओवैसी ने कहा कि जब 4 फीसदी राजपूत एकजुट होकर पद्मावत रिलीज के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन कर सकते हैं तो 14 फीसदी मुसलमान शरीयत कानून को बचाने के लिए क्यों नहीं एकजुट हो सकते हैं?

न्यूज 18 के मुताबिक ओवैसी ने कहा, “जब फिल्म में रानी पद्मावती पर कुछ गलत दिखाया गया तो 4 फीसदी राजपूत फिल्म के खिलाफ उठ खड़े हुए और कहने लगे थिएटर जला दूंगा, एक्टर की नाक काट लूंगा, फिल्म डायरेक्टर का सिर धड़ से अलग कर दूंगा लेकिन फिल्म रिलीज होने नहीं देंगे।

इतना ही नहीं ओवैसी ने कहा कि राजपूतों ने मुसलमानों को आइना दिखा दिया है। उन्होंने कहा कि अभी भी उनका संघर्ष जारी है। वो फिल्म रिलीज नहीं होने देने के लिए संघर्ष कर रहे हैं लेकिन शरीयत को बचाने के लिए हम लोग क्या कर रहे हैं?

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार (23 जनवरी) को भी फिल्म का विरोध करने वालों के झटका देते हुए सभी राज्य सरकारों से कानून-व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए हैं। फिल्म 25 जनवरी को रिलीज होगी। कोर्ट ने कहा कि लोगों को यह समझ लेना चाहिए कि टॉप कोर्ट का यह आदेश अनुपालन के लिए है।

Top Stories