Friday , September 21 2018

मुंबई में नस्लीय हिंसा के बाद बढ़ा तनाव, धारा-144 लागु

महाराष्ट्र: भीम कोरेगांव की लड़ाई की 200वीं वर्षगांठ मनाने जुटे लाखों दलितों की सोमवार को पुणे में मराठा संगठनों के साथ हिंसक झड़प गया, जिसके बाद दलित समुदाय ने इसके खिलाफ मंगलवार को बंद का आह्वान किया है। बता दें कि मराठा संगठनों से हुए इस हिंसक झड़प में एक व्यक्ति की मौत हो गई और कई घायल हो गए थे। वहीँ इस घटना को गंभीरता से लेते हुए मुंबई के कई इलाकों में धारा 144 लगा दी गई है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुख्य समारोह भीम कोरेगांव के जय स्तंभ पर शांतिपूर्वक चल रहा था, लेकिन इसी बीच पड़ोसी गांवों की ओर से हिंसक झड़प शुरू हो गई। पुलिस के मुताबिक दलित समुदाय के 5 लाख से ज्यादा लोग भीम कोरेगांव लड़ाई की 200वीं वर्षगांठ मनाने के लिए पुणे शहर में जमा हुए थे।

उनहोंने कहा कि हर साल एक जनवरी को हजारों दलित जयस्तंभ तक मार्च करते हैं। पिछले वर्षों पर नजर डालें को कभी हिंसा का कोई रिकॉर्ड नहीं मिला है। इस साल किसी अन्य झगड़े के कारण भीम कोरेगांव के आसपास के इलाकों में तनाव पसरा हुआ था। बता दें कि इस लड़ाई में ब्रिटिश सेनाओं ने 1 जनवरी 1818 को पेशवाओं की सेना को शिकस्त दी थी।

उधर महाराष्ट्र के गृह राज्यमंत्री दीपक केसरकार ने इस मामले पर बताया कि स्थिति अब नियंत्रण में है। उन्होंने कहा कि राज्य में कोई भी गलत संदेश नहीं फैलना चाहिए। मैं सभी से शांति बनाए रखने की अनुरोध करता हूं।

TOPPOPULARRECENT