सियाचीन ग्लेशियर में हिमस्खलन से सेना के 4 जवानों सहित 6 शहीद

सियाचीन ग्लेशियर में हिमस्खलन से सेना के 4 जवानों सहित 6 शहीद

सियाचिन ग्लेशियर में हुए हिमस्खलन में सेना के 4 जवानों की मौत हो गई है। इनके अलावा 2 पोर्टर की भी मौत हो गई है। भारतीय सेना की तरफ से जानकारी दी गई कि 19,000 फीट की ऊंचाई पर सियाचिन ग्लेशियर के उत्तरी क्षेत्र में सक्रिय आठ कर्मी आज हिमस्खलन की चपेट में आ गए। आस-पास के स्थानों से हिमस्खलन बचाव दल स्थान पर पहुंचे।

सभी 8 कर्मियों को हिमस्खलन के मलबे से बाहर निकाला गया। चिकित्सा दलों के साथ गंभीर रूप से घायल हुए 7 लोगों को हेलीकॉप्टरों द्वारा नजदीकी सैन्य अस्पताल में पहुंचाया गया। अत्यधिक हाइपोथर्मिया के कारण 4 जवानों सहित 6 लोगों की मौत हो गई। हिमस्खलन की यह घटना उत्तरी ग्लेसियर में 19,000 फीट की ऊंचाई और उससे ऊपर के स्थानों पर हुई है।

सेना ने बताया कि बर्फ में दबे जवान गश्ती दल का हिस्सा थे और जब वे गश्ती पर थे तो इसी दौरान वे इसकी चपेट में आ गए। यह घटना शाम साढ़े तीन बजे की है।  बर्फ के नीचे फंसे जवानों को निकालने के लिए सभी संभव प्रयास किए जा रहे हैं जहां सर्दियों के दौरान शून्य से 30 डिग्री नीचे तापमान सामान्य है।

सियाचिन ग्लेशियर दुनिया का सबसे ऊंचा युद्ध क्षेत्र है और यहां दुश्मन की गोलीबारी की तुलना में क्षेत्र में मौसम और इलाके से संबंधित घटनाओं में अधिक सैनिक मारे गए हैं। सियाचिन ग्लेशियर पर 1984 से भारत का नियंत्रण रहा है और भारत इसे लद्दाख के लेह जिले के अधीन प्रशासित करता है।

Top Stories