राष्ट्रमंडल खेल : अब साड़ी की जगह ब्लेजर और पैंट पहनेंगी भारतीय महिला खिलाड़ी

राष्ट्रमंडल खेल : अब साड़ी की जगह ब्लेजर और पैंट पहनेंगी भारतीय महिला खिलाड़ी

नई दिल्ली। परंपरा से हटते हुए भारतीय दल में शामिल महिला खिलाड़ी गोल्ड कोस्ट में होने वाले आगामी राष्ट्रमंडल खेलों के उद्घाटन समारोह में साड़ी की जगह ब्लेजर और पैंट पहनेंगी। भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने संबंधित हितधारकों और खिलाडियों के प्रतिनिधि के सलाह मशविरे के बाद यह फैसला लिया है। लेकिन बैडमिंटन ऐस पीवी सिंधु और कुश्ती खिलाड़ी साक्षी मलिक जैसे महिला ओलंपिक पदक विजेता दोनों, समय-सम्मानित साड़ी को पसंद करते हैं।

मलिक ने मेल टुडे अखबार को बताया, ‘जब हम उद्घाटन समारोहों के दौरान साड़ी पहनते हैं, हम हमेशा खुश और गर्व महसूस करते हैं। आईओए सचिवालय ने प्रेस विज्ञप्ति में कहा, ‘गोल्ड कोस्ट 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में महिला खिलाड़ी ब्लेजर और पैंट पहनेंगी। मालव श्राफ की अगुआई वाले आईओए खिलाड़ी आयोग ने इस कदम का स्वागत किया है। श्राफ ने आईओए अध्यक्ष नरिंदर बत्रा को लिखा, ‘उद्घाटन समरोह की पोशाक में बदलाव अधिक बेहतर और खिलाडिय़ों के लिए सहज है’।

युवा एथलीटों का मानना ​​है कि ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में 4 अप्रैल से शुरू होने वाली 21 वीं राष्ट्रमंडल खेलों के लिए उद्घाटन परेड में बेहतर बदलाव होगा। महिला हॉकी के कप्तान रानी रामपाल ने एएफपी को बताया कि वह सोमवार को नई दिल्ली में पोशाक के आधिकारिक प्रक्षेपण में नई वर्दी को पसंद करती हैं। 23 वर्षीय रामपाल ने कहा कि यह बहुत अच्छा है। समय-समय पर बदलाव होना चाहिए। खेलों में साड़ी पहनने के लिए लड़कियों का हमेशा इस्तेमाल होता था लेकिन इस बार यह अलग होगा।

पंद्रह वर्षीय शूटर मनु भाकर को साड़ी पहनने के लिए राहत मिली थी, जिसके लिए उसे लपेटना मुश्किल लगता है। भाकर ने एएफपी को बताया कि वह हमेशा पतलून और शर्ट पहनती है इसलिए नई वर्दी उसके लिए सहज होगी। भारतीय जिमनास्ट प्रणिता दास ने 2014 के राष्ट्रमंडल खेलों में साड़ी पहनी थी लेकिन उन्होंने कहा कि उसने सोचा कि पतलून महिला एथलीटों के लिए बेहतर फिट होगा। पुरुष एथलीटों ने ज्यादातर खेल आयोजनों में ग्रे ट्राउजर के साथ नीले ब्लेज़र्स पहना है जबकि महिलाओं को पारंपरिक भारतीय पोशाक पहनना पड़ता है।

इस बार अधिक यूनिसेक्स होगा, हालांकि पुरुषों को टाई पहनना होगा, जबकि महिलाओं में स्कार्फ पहनना होगा। रेमंड कंपनी ने ऑस्ट्रेलिया में भारतीय दल के संगठनों के लिए डिज़ाइन किया था, ने कहा कि महिलाओं के आधुनिक पोशाक अधिक व्यावहारिक हैं। रेमंड के प्रवक्ता रोहित खन्ना ने एएफपी को बताया कि पारंपरिक भारतीय पोशाक निश्चित रूप से साड़ी है लेकिन महिलाओं की एथलीटों ने खुद कहा है कि एक साड़ी लपेटने के लिए एक कठिन काम है। इसलिए उनकी प्रतिक्रिया के आधार पर हमने महिलाओं के एथलीटों के लिए इस पहनावा का निर्माण किया, जो कि एक सफेद शर्ट, रंगीन और एक स्कार्फ के साथ ट्राउजर है।

Top Stories