जब नेपोलियन बोनापार्ट ने पैगंबर मोहम्मद (PBUH) के जन्म का जश्न मनाया !

जब नेपोलियन बोनापार्ट ने पैगंबर मोहम्मद (PBUH) के जन्म का जश्न मनाया !

मिस्र में फातिमिद खिलाफत को पराजित करने के बाद, सलाहूद्दीन अयूबी ने सभी अनुष्ठान और समारोहों को समाप्त कर दिया था। शोधकर्ताओं का कहना है कि वह बाहरी खतरों का सामना करने में सक्षम होने के लिए राज्य को मजबूत करने का लक्ष्य रखा था, और वह भी फातिमिद युग की सभी सामाजिक घटनाओं की विशेषता को मिटाकर शिया सिद्धांत को उखाड़ फेंकना चाहता था।

मामलुक युग के दौरान, सुल्तान धार्मिक समारोह आयोजित करने और विशेष रूप से पैगंबर मोहम्मद (सल.) के जन्म का जश्न मनाने के इच्छुक थे, लेकिन यह इतना आसान नहीं था। पैगंबर के जन्म का शोषण करने वाली राजनीति न केवल मध्य युग में होती थी, बल्कि यह आधुनिक युग तक भी बढ़ी है। अगस्त 1798 में, काहिरा में नेपोलियन के लिए दूसरा महीना था, यह पैगंबर मोहम्मद (सल.) के जन्म का जश्न मनाने का दिन था, और प्रसिद्ध फ्रांसीसी नेता को एहसास हुआ कि वह मिस्र में इस अवसर का लाभ उठा सकते हैं।

मिस्र के इतिहासकार अब्दुलरहमान अल-जबार्ति ने अपने मशहूर पुस्तक “द मार्वलस क्रॉनिकल्स: जीवनी और घटनाक्रम” में उस अवसर पर क्या हुआ उसके बारे में एक सटीक वर्णन दिया है।

पुस्तक में वे कहते हैं “नेपोलियन की सेना के नेता ने पूछा क्यों मिस्री हमेशा की तरह पैगंबर और शेख खलील अल बकरी के जन्म का उत्सव नहीं मना रहे हैं, कहा गया कि समारोह को सलाहुद्दीन ने हमेशा के लिए बंद कर दिया है। “नेपोलियन नेता ने उसके उस जवाब से नखुश हुआ और और सजावट लगाने और दुबारा जश्न मनाने का आदेश दिया साथ ही कुछ पैसे भी दिए गए।”

इस अवसर पर, पुस्तक कहती है कि फ्रांसीसी इकट्ठा हुआ और नेपोलियन अल-अजहर शेख में शामिल हो गए और त्यौहार की रात की निगरानी भी की।
नेपोलियन ने त्यौहार में हिस्सा लिया और खाने पर भी भाग लिया, जिस तरह मिस्र उस समय खाना खाते थे, और उन्होंने सूफी गायकों की भी बात सुनी जो पुस्तक के अनुसार पैगंबर की प्रशंसा करते थे। और फिर फ्रांसीसी जब मिस्र छोड़ दिये उसके बाद से, मिस्र के लोग पैगंबर के जन्म का जश्न मनाते रहे और अभी तक भी मानते हैं।

Top Stories