चीन को ठेंगा दिखाने में जुटे भारत और ईरान

चीन को ठेंगा दिखाने में जुटे भारत और ईरान
भारत और ईरान ने कनेक्टिविटी के मसले पर पाकिस्तान को ठेंगा दिखाने के बाद अब चीन का मुकाबला करने के लिए कमर कस ली है। भारत और ईरान चाबहार पोर्ट को एक बड़े कनेक्टिविटी प्रॉजेक्ट से जोड़ने पर जुट गए हैं। ईरान के राष्ट्रपति हसन रोहानी भारत की यात्रा पर आए हुए हैं। 10 साल के बाद ईरान के किसी राष्ट्रपति की भारत यात्रा हो रही है। इससे पहले पीएम मोदी  ने 2016 में ईरान की यात्रा की थी। शनिवार को दोनों नेताओं की बातचीत के बाद नौ समझौतों पर साइन किए गए।

इन समझौतों मे शाहिद बेहेस्ती पोर्ट (चाबहार फेज 1) को 18 महीने के लिए अंतरिम तौर पर भारतीय कंपनी को सौंपने का लीज कॉन्ट्रैक्ट अहम है। चाबहार के पहले फेज को पिछले साल दिसंबर में शुरू किया जा चुका है। भारत, ईरान और अफगानिस्तान इस पोर्ट के जरिये ट्रांसपोर्ट कॉरिडोर बनाने के लिए त्रिपक्षीय समझौता कर चुके हैं। इस रूट से अफगानिस्तान को गेहूं पहुंचाया जा चुका है।

अफगानिस्तान को भारत से जमीनी रूट से गेहूं पहुंचाने में पाकिस्तान बाधा डाल रहा था, लेकिन इस पोर्ट के जरिये पाक को बाइपास कर दिया गया। भारत और ईरान ने अब चाबहार को इंटरनैशनल नॉर्थ साउथ ट्रांसपोर्ट कॉरिडोर के फ्रेमवर्क से जोड़ने पर जोर दिया है, जिसे चीन के वन बेल्ट वन रोड के मुकाबले के तौर पर देखा जा रहा है।

ईरान जल्द ही इस कॉरिडोर पर कोऑर्डिनेशन की खातिर मीटिंग करेगा। भारत, ईरान और रूस ने 2000 में इस बड़े कनेक्टिविटी कॉरिडोर प्रॉजेक्ट की शुरुआत की थी। इसका एक ड्राई रन 2014 में हो चुका है, लेकिन दूसरा ड्राई रन टलता आ रहा है।

पीएम मोदी ने कनेक्टिविटी में प्रगति की बात करते हुए कहा कि चाबहार पोर्ट अफगानिस्तान और मध्य एशिया क्षेत्र के गोल्डन गेटवे के तौर पर काम करेगा। पीएम ने कहा कि हम चाबहार-जहिदान रेल लाइन के विकास को सपॉर्ट करेंगे, ताकि चाबहार गेटवे की पूरी क्षमता का लाभ उठाया जा सके।

लंबी अवधि के लिए एनर्जी पार्टनरशिप के लिए भारत के लिए ऊर्जा सुरक्षा के नजरिए से अहम फरजाद बी गैस फील्ड पर बातचीत की गति तेज करने पर सहमति हुई है। इस गैस फील्ड को भारतीय कंपनियों ने 2008 में खोजा था, लेकिन ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों के कारण इस दिशा में बात आगे नहीं बढ़ सकी थी। डबल टैक्सेशन से बचने के लिए संधि भी हुई, जिस पर करीब एक दशक से बातचीत चल रही थी। दोनों देशों के बीच प्रत्यर्पण संधि पर 2008 में साइन हुए थे, लेकिन यह लागू नहीं हो पाया था। अब यह लागू हो गया है।

कुलभूषण जाधव का मुद्दा नहीं उठा बातचीत में
भारत और ईरान के बीच बातचीत में कुलभूषण जाधव का मुद्दा नहीं उठा। पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक जाधव के बारे में माना जाता है कि उन्हें कैद करने से पहले ईरान से उनका अपहरण किया गया था। शनिवार को भारत और ईरान की बातचीत में यह मुद्दा क्यों नहीं उठा, इस बारे में पूछे जाने पर विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि यह दोनों देशों के बीच द्वपक्षीय मसला नहीं था।

भारत और ईरान के बीच बातचीत में आतंकवाद पर चर्चा हुई, लेकिन आतंकवाद फैलाने के लिए पाकिस्तान का नाम नहीं लिया गया। इस बात पर दोनों देश एक राय थे कि आतंकवाद मानवता के लिए चुनौती है और आतंकवाद की सभी रूपों में निंदा करनी होगी। आतंकवाद से मुकाबले पर दोनों देशों में संपर्क बढ़ेगा। दोनों पक्षों ने सहमति जताई कि रक्षा संबंधों के मसले पर भी बातचीत की जाए। पीएम मोदी ने कहा कि हम दोनों देश अपने पड़ोसी मित्र अफगानिस्तान को शांतिपूर्ण देश के तौर पर देखना चाहते हैं।

Top Stories