Monday , June 18 2018

पासपोर्ट कार्यालय ने मदरसे के छात्रों से पूछा आतंकी तो नहीं हो ?

पासपोर्ट कार्यालय में मदरसों के छात्रों से अभद्रता किए जाने का मामला सामने आया है। पासपोर्ट कार्यालय में मदरसों के छात्रों से पूछा जा रहा है कि वे आतंकवादी तो नहीं हो। दरगाह आला हजरत के प्रवक्ता मुफ्ती मुहम्मद सलीम नूरी ने प्रधानमंत्री को भेजे शिकायत पत्र में कहा है कि मदरसा बोर्ड की मार्कशीट के छात्रों के साथ पासपोर्ट कार्यालय के कर्मचारी व अधिकारी अभद्र व्यवहार कर रहे हैं।

पासपोर्ट की वेबसाइट में दर्शाए गए प्रपत्रों से अलग से गैर जरूरी कागजात मांगे जा रहे हैं। मुफ्ती सलीम नूरी ने कहा कि 1995 में उत्तर प्रदेश सरकार ने आलिम परीक्षा को इंटरमीडिएट, मौलवी व मुंशी परीक्षा को हाई स्कूल परीक्षा के समकक्ष घोषित किया था। मुंशी, मौलवी की मार्कशीट लेकर जब मदरसे के छात्र पासपोर्ट बनवाने जा रहे हैं तो वहां का स्टाफ उनके साथ अभद्र व्यवहार कर रहे हैं।

अभद्र भाषा बोलकर मार्कशीट को फर्जी बता रहे हैं। यही नहीं मार्कशीट छात्रों के ऊपर फेंक रहे हैं। बहुत से छात्रों से प्रवेश पत्र, टीसी आदि कागजात मांगते है, जो पासपोर्ट की वेबसाइट पर किए गए प्रपत्रों से अलग हैं। दूसरे जिलों से आने वाले छात्र पासपोर्ट बनवाने के लिए कार्यालय के चक्कर काट रहे हैं।

मुफ्ती सलीम नूरी का आरोप है कि पासपोर्ट कार्यालय पर आवेदन करने वाले छात्रों की अंक तालिका में दर्ज विषयों से संबंधित सवाल पूछकर उनका साक्षात्कार लेकर मनोबल तोड़ा जा रहा है। उनका कहना है कि पासपोर्ट कार्यालय के स्टाफ की ओर से उत्पन्न किए जाने वाले व्यवधानों को खत्म कर नियमानुसार बिना भेदभाव के आवेदकों की बात सुनी जाए।

TOPPOPULARRECENT