Wednesday , December 13 2017

मौसम से जुड़ी आपदाओं के मामले में भारत दुनिया का छठा सबसे असुरक्षित देश: रिपोर्ट

भारत  मौसम से जुड़ी घटनाओं के लिहाज से दुनिया का छठा सबसे असुरक्षित देश है। बर्लिन बेस्ड एक एनजीओ जर्मनवॉच ने गुरुवार को जलवायु परिवर्तन के खतरों का सामना कर रहे देशों की सूची जारी की है। जलवायु परिवर्तन के खतरों के मामले में सबसे ऊपर जिम्बॉब्वे, फिजी, श्रीलंका और वियतनाम के भारत का छठा स्थान है।

CRI जलवायु परिवर्तन से जुड़ी वजहों से किसी देश में प्रति लाख आबादी में लोगों की मौत आकंड़े से उस देश की जीडीपी को होनेवाले नुकसान के विश्लेषण पर आधारित है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत में 2016 में जलवायु परिवर्तन की वजह से सबसे ज्यादा 2,119 मौतें हुईं और मौसम से जुड़ी आपदाओं की वजह से उसे 21 अरब डॉलर की संपत्ति का नुकसान हुआ। पिछले साल अमेरिका को सबसे ज्यादा वित्तीय नुकसान 47 अरब डॉलर से ज्यादा हुआ था

CRI रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 20 सालों (1997-2016) के आंकड़ों के विश्लेषण से पता चला है कि इस दौरान जलवायु परिवर्तन से जुड़ी वजहों से दुनियाभर में 5 लाख 24 हजार लोगों की मौत हुई और इस दौरान 11,000 से ज्यादा मौसम संबंधी त्रासदियों की वजह से करीब 32 खरब डॉलर की संपत्तियों का नुकसान हुआ।

मौजूदा विश्लेषण में सिर्फ तूफान, बाढ़, ठंड और गर्मी की वजह से हुई त्रासदियों को शामिल किया गया है। भूकंप, ज्वालामुखी के विस्फोट या सुनामी जैसी त्रासदियों को इस विश्लेषण में शामिल नहीं किया गया है क्योंकि ये त्रासदियां मौसम से जुड़ी हुई नहीं हैं।

 

 

 

TOPPOPULARRECENT