भारतीय पुरी दुनिया को अपनी एकजुटता दिखाए- मोहन भागवत

भारतीय पुरी दुनिया को अपनी एकजुटता दिखाए- मोहन भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने मंगलवार को कहा कि भारत के लोगों को एकता में विविधता की खोज करने की बजाय विविधता में एकता खोजने के लिए दुनिया का नेतृत्व करना चाहिए।

 

 

“ब्रह्मांड में विविधता है और हमें इसे स्वीकार करना और इसका सम्मान करना है। इस देश की संस्कृति इस ज्ञान के साथ जीना है कि विविधता एकता से निकली है। हम वे नहीं हैं जो एकता में विविधता की खोज करते हैं। हम वे हैं जो समझते हैं कि विविधता में एकता है, ”भागवत ने यहां एक सभा को संबोधित करते हुए कहा।

 

संघ विचारक एस. गुरुमूर्ति ने जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि जेएनयू का डीएनए देश विरोधी है। अगर इसे बदला नहीं जा सकता तो इसे बंद कर देना चाहिए

 

वहीं संघ विचारक ने एक बार फिर जेएनयू पर अपना पुराना रुख दोहराया। चेन्नई में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान संपादक से सवाल के दौर में गुरुमूर्ति ने पाठकों के सवालों के जवाब दिए। गुरुमूर्ति से पूछे गए सवालों में एक सवाल जेएनयू पर भी था।

 

अपने जवाब में गुरुमूर्ति ने कहा कि हर कोई जानता है कि जेएनयू का डीएनए देश विरोधी है। वे इस पर बात नहीं करते हैं क्योंकि तब उन्हें उदार या धर्मनिरपेक्ष नहीं कहा जाएगा। इसीलिए वे लोग इसे छिपा रहे हैं। जेएनयू को बदलने की जरूरत है और अगर इसे बदला नहीं जा सकता है तो इसे बंद कर देना चाहिए।

मालूम हो कि विभाग प्रचार प्रमुख पवन जैन के मुताबिक बुधवार शाम को संघ प्रमुख  महानगर पहुंच की बात है, इस दौरान वे स्थानीय कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर विश्राम करेंगे। इसके बाद 16 को क्षेत्र के प्रमुख लोगों के साथ बैठक कर समीक्षा करेंगे। इसमें मेरठ, बृज और उत्तराखंड के पदाधिकारी शामिल होंगे।

करीब डेढ़ सौ से अधिक पदाधिकारी इन बैठकों में हिस्सा लेंगे। 18 जनवरी को वे मकर संक्रांति उत्सव में भाग लेंगे, जिसमें आम नागरिक भी शामिल हो सकेंगे। यहां वे अपना बौद्धिक देंगे। इसके अलावा सिर्फ संघ के पदाधिकारियों से ही उनकी मुलाक़ात का कार्यक्रम है।

Top Stories