Saturday , July 21 2018

भारत के जेट एयरवेज ने लगभग 46 हजार करोड़ के 75 बोइंग जेट खरीदने का एक बड़ा ऑर्डर दिया

नई दिल्ली : भारतीय एयरलाइंस जेट एयरवेज ने 75 बोइंग 737MAX विमान खरीदने के लिए समझौता किया है, जो 7 बिलियन डॉलर (लगभग 45 हजार 500 कोरोड़) से भी ज्यादा हो सकता है। देश की दूसरी सबसे बड़ी एयरलाइन ने मंगलवार को मुंबई स्टॉक एक्सचेंज में घोषणा की। जेट एयरवेज ने बुधवार को कहा कि उसने 75 बोइंग 737 मैक्स विमानों के लिए एक नया आदेश पर हस्ताक्षर किए हैं, जिससे इस तरह के विमानों के लिए कुल क्रम 150 तक पहुंच गया है।

जेट, जिसमें 120 विमान हैं – बोइंग 777-300 ईआरएस, एयरबस ए 330-300, बोइंग 737 और एटीआर 72-500 / 600 एस- में 2015 में 75 बोइंग 737 मैक्स विमानों के लिए आदेश दिया गया था। जेट एयरवे के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विनय दुबे ने एक बयान में कहा, “अतिरिक्त 75 बोइंग 737 मैक्स एयरक्राफ्ट के लिए हमारा नया ऑर्डर हमें अपने मेहमान को एक विभेदित और विश्वस्तरीय ग्राहक अनुभव प्रदान करने की अनुमति देगा।”

यह सौदा 7.2 अरब डॉलर और 9 .7 अरब डॉलर के बीच हो सकता है, जो कि जेट के प्रकार के आधार पर हासिल किया गया है और सूची मूल्यों पर आधारित है। एयरलाइंस अक्सर प्रमुख आदेशों पर छूट की बातचीत करते हैं। भारत हवाई यात्रा में तेजी से बढ़ रहा है। एयरलाइंस मध्यम वर्ग के बाजार को पकड़ने के लिए तेजी से अपने बेड़े का विस्तार कर रही है। पिछले दशक में यात्रियों की संख्या में छः गुना बढ़ोतरी हुई है क्योंकि भारतीयों ने बेहतर कनेक्टिविटी और सस्ते किरायों का फायदा उठाया है जो कम लागत वाले एयरलाइनों के लिए यह बहुत अच्छा है।

ब्रिटेन आगे निकल जाएगा भारत
ऑस्ट्रेलिया में स्थित एविएशन का केंद्र भविष्यवाणी करता है कि भारत 2025 तक विश्व के तीसरे सबसे बड़े बाजार के रूप में ब्रिटेन से आगे निकल जाएगा और 2036 तक 478 मिलियन उड़ान भरने वाला देश होगा। भारत की सबसे बड़ी एयरलाइन इंडिगो ने पिछले साल फ्रेंच निर्माता एटीआर से 50 छोटे विमान खरीदने के लिए एक सौदे की घोषणा की। जेट एयरवेज के बेड़े में बहुसंख्य बोइंग विमान हैं। बोइंग का कहना है कि 737 मैक्स अपने इतिहास में सबसे तेजी से बेचने वाला हवाई जहाज है, जिसमें 4,300 से ज्यादा ऑर्डर मिले थे।

TOPPOPULARRECENT